News Description
सिंचाई पानी नहीं मिलने से गेहूं की बिजाई प्रभावित

रोड़ी:हरियाणा-पंजाब की सीमा से सटे क्षेत्र में ¨सचाई पानी नहीं मिलने पर गेहूं की बिजाई प्रभावित हो रही है। इससे किसानों को काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है। नहरी पानी के अभाव के चलते किसान भूमिगत जल का उपयोग कर रहे हैं। जिसको लेकर भी भूमिगत जल की खातिर भी किसानों को 5 से 15 किलोमीटर दूरी तक भूमिगत ट्यूबवेल पाइप लाइनें बिछाई हुई हैं, जिससे किसानों को काफी पैसा व्यय करना पड़ा है।

जल के संकट के मध्य नजर अब किसानों ने नहर किनारे भूमि मोल लेकर ट्यूबवेल लगाऐ हुए हैं। उसका पानी पांच से पन्द्रह किलोमीटर दूरी तक के खेतों में भूमिगत पाइप लाइन बिछा ले जाना पड़ रहा है। इस पर किसानों को काफी धनराशि खर्च करनी पड़ रही है। एक किलोमीटर दूरी तक के पाइप लाइन बिछाने पर करीब डेढ़ लाख रुपये का खर्च होता है। इतना पैसा खर्च कर देने के बाद ¨चतनीय पहलू यह है कि भूमिगत जल से बिजाई की गई फसल के अंकुरित होने व फिर उसके बच पाने में काफी दिक्कत है। कृषि विकास विभाग अधिकारियों के अनुसार भूमिगत जल में लवण की मात्रा अधिक होने के कारण कई फसलें सही तौर पर अंकुरित नहीं हो पाती, जिससे किसानों का महंगे भाव का बीज व्यर्थ जाता है।