News Description
ड्यूटी मजिस्ट्रेट की नियुक्ति तक नप नहीं चलाएगी अतिक्रमण हटाओ अभियान

गोहाना: नगर परिषद ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त होने तक शहर में अतिक्रमण हटाओ अभियान नहीं चलाएगी। नप ने यह फैसला अभियान के दौरान कर्मचारियों से मारपीट होने के बाद लिया है। भविष्य में इस तरह की घटना न घटे, इसी के मद्देनजर ड्यूटी मजिस्ट्रेट की निगरानी में अभियान चलाने का निर्णय लिया गया है। नप अधिकारी अदालत से जनहित याचिका पर अगली सुनवाई के दौरान ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त करने के लिए गुहार लगाएंगे।

क्षेत्र के अधिवक्ताओं ने शहर में अतिक्रमण की समस्या का समाधान न होने पर स्थानीय अदालत में जनहित याचिका दायर कर रखी है। उसी याचिका पर सुनवाई करते हुए अदालत ने नप को शहर को अतिक्रमणमुक्त कराने और अगली सुनवाई पर स्टेटस रिपोर्ट पेश करने के आदेश दे रखे हैं। इसी के मद्देनजर नप द्वारा करीब दस दिन से शहर में अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया जा रहा है। बुधवार को एक दुकानदार ने अभियान के दौरान जेसीबी संचालक पर रॉड से हमला कर दिया था। बृहस्पतिवार को पंजाबी कॉलोनी में कर्मचारियों से मारपीट करते हुए मोबाइल फोन तोड़ दिए थे। नप अधिकारियों का कहना है कि दोनों दिन अभियान के दौरान पुलिसकर्मी साथ थे लेकिन कोई सहयोग नहीं मिला। पुलिस कर्मियों ने मारपीट के दौरान नप कर्मचारियों को बचाया तक नहीं।

एक तरफ अदालत का आदेश और दूसरी तरफ नप कर्मचारियों से मारपीट होने की स्थिति में नप अधिकारी असमंजस में फंस गए हैं। अब नप ने फैसला लिया कि ड्यूटी मजिस्ट्रेट की निगरानी में ही यह अभियान चलाया जाएगा। 12 दिसंबर को जनहित याचिका पर अदालत में सुनवाई होनी है। उस दौरान अधिकारी अदालत से अभियान चलाने के लिए ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त करने के लिए गुहार लगाएंगे।

अतिक्रमण हटाओ अभियान में दुकानदार कर्मचारियों से मारपीट कर रहे हैं। पुलिस साथ थी लेकिन कर्मचारियों को पिटने से नहीं बचाया गया। भविष्य में ऐसी घटना न हो इसी को ध्यान में रखते हुए नप अदालत से अभियान चलाने के लिए ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त करने की गुहार लगाएगी।