News Description
करोड़ों का है तेल का खेल, पहले भी कई बार लगी सेंध

 रेवाड़ी : बहादुरगढ़-मुंद्रा-दिल्ली तेल पाइप लाइन में शनिवार रात को सेंध लगा दी गई। लाखों रुपये का तेल खेतों में बह गया और सेंध लगाने वाले बदमाश भी फरार हो गए। तेल पाइप लाइनों की सुरक्षा को लेकर एक बार फिर से बड़ा सवाल खड़ा हुआ है। तेल चोरी के इस खेल को कोई पहली बार अंजाम नहीं दिया जा रहा है। जिला की सीमा में इससे पहले भी तेल पाइप लाइन को भेदा जा चुका है और बड़े गिरोह के छोटे गुर्गे भी हत्थे चढ़ चुके हैं, लेकिन यह खेल है कि रुकने का नाम ही नहीं ले रहा।

तेल पाइप लाइन में सेंध लगाने का बड़ा खेल हर साल सामने आता है। वर्ष 2013 और 015 में तो करोड़ों का तेल चोरी होने के बाद आरोपियों तक पुलिस के हाथ पहुंच पाए थे। पाइप लाइन में सेंध लगाने के इस खेल को अंजाम देने के पीछे कोई छोटा-मोटा गिरोह नहीं है। तेल की बड़ी पाइप लाइन में सेंध लगाने का काम कोई आसान नहीं है। बहते तेल की पाइप लाइन को तोड़ने व उसमें वाल्व लगाने का काम बेहद खतरनाक होने के साथ ही इसमें आधुनिक मशीनों का इस्तेमाल किया जाता है। जरा सी चूक जान ले सकती है, इसलिए एक्सपर्ट ही इसे अंजाम दे पाते हैं। इतने खतरनाक काम को अंजाम देने की हिम्मत इसलिए की जाती है, क्योंकि एक रात भी तेल चोरी की वारदात को अंजाम दिया जाता है तो लाखों का तेल इधर से उधर हो जाता है। बड़ी खामी तेल पाइप लाइन की सुरक्षा को लेकर सामने आती है। खेतों से गुजरती पाइप लाइन में अगर सेंध लगती है तो इसका अलर्ट होना आवश्यक है, लेकिन आजतक भी तेल कंपनियां ऐसा सिस्टम तैयार नहीं कर पाई, जिससे हाथों हाथ लाइन तोड़ने का सिग्नल मिल सके। इसके अतिरिक्त पाइप लाइन की सुरक्षा में तैनात किए गए सुरक्षाकर्मी भी किसी घटना के बाद ही ज्यादा गश्त करते नजर आते हैं, वरना तो सबकुछ राम भरोसे ही होता है।