News Description
मल्टीलेवल पार्किंग की टाइलें में गाड़ियों के टायर हो रहे स्लिप

सेक्टर1 में बने मल्टीलेवल पार्किंग पहले तो देर से बनी इस वजह से लोगों को पार्किंग की समस्या का सामना करना पड़ा। अब पार्किंग की बिल्डिंग बनकर तैयार होने के बाद भी आम लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

पार्किंग के बेसमेंट टू, वन ग्राउंड फ्लोर की सतह की टाइलें काफी फिसलनदार हैं। ऐसे में गाड़ियों के एंटर करते ही टायर फिसलने लगते हैं। इसकी वजह से लोग अपनी गाड़ी पर बैंलेंस नहीं बना पा रहे। यही नहीं टू व्हीलर्स भी पार्किंग में ले जाने में काफी परेशानी होती है और उनके टायर भी काफी फिसलते हैं। जिला प्रशासन पीडब्ल्यूडी विभाग की ओर से इस मुद्दे पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा। चंडीगढ़ एडमिनिस्ट्रेशन से रिटायर्ड चीफ इंजीनियर एसके चड्ढा ने बताया कि चंडीगढ़ में मैंने कई पार्किंग बनवाई हैं। पार्किंग कभी भी स्लिपरी यानी कि फिसलनदार नहीं होने चाहिए। बल्कि सेमी रफ फिनिशिंग होने चाहिए ताकि गाड़ी का पहिया ना फिसले और उस सतह पर गाड़ी की मूवमेंट हो सके।

एकएकड़ जमीन पर पार्किंग और ऑफिशियल स्पेस के लिए बिल्डिंग बनाई गई है। पार्किंग बनाई गई है। दो मंजिलें बेसमेंट में और एक मंजिल ग्राउंड फ्लोर पर पार्किंग है। ऊपर के तीन फ्लोर पर सरकारी ऑफिस के लिए बनाई गई है। कुल पार्किंग एरिया 1850 स्क्वेयर मीटर है। इसमें करीब 260 कारें/जीपें खड़ी हो सकेंगी। 


फायर ऑफिसर ने बिल्डिंग की फायर एनओसी जारी कर दी गई, लेकिन पार्किंग की बिल्डिंग में अभी तक फायर एक्सटिंग्विशर रविवार को लगाया जा रहा था। ऐसे में यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि बिल्डिंग की उद्‌घाटन के लिए प्रशासन फायर विभाग की ओर से आनन-फानन एनओसी जारी करवाई गई थी। 

उद्‌घाटन के 8 वें दिन बाद भी मल्टीलेवल पार्किंग की बिल्डिंग का काम पूरा नहीं हुआ है। पार्किंग की बिल्डिंग के बेसमेंट वन टू में रविवार को बिजली पेंट का काम चल रहा था। पार्किंग में काम कर रहे कर्मियों ने बताया कि पक्के कलर का काम किया जा रहा है। इसे दो से तीन दिनों में कंप्लीट कर लिया जाएगा।