News Description
अम्मू से राजपूतों का किनारा, कहा : उनसे हमारा लेना-देना नहीं

पंचकूला : दीपिका पादुकोण की नाक काटने पर 10 करोड़ रुपये का इनाम घोषित करने के बाद भाजपा का मीडिया प्रभारी पद खो चुके सूरजपाल अम्मू से राजपूतों ने भी किनारा करते हुए मोर्चा खोल दिया है। राजपूताना विरासत जागृति मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष भूम सिंह राणा, राजपूत नेता जितेंद्र राणा, राकेश चौहान, रवि ठाकुर, अरुण राघव, मीडिया प्रभारी विमल सिंह ने रविवार को आयोजित पत्रकार वार्ता में बताया कि अम्मू द्वारा शनिवार को पंचकूला में आयोजित स्वाभिमान रैली के दौरान देशद्रोह के आरोप में बंद रामपाल को रिहा करने की मांग की गई थी।

इस बारे में पहले नहीं बताया गया था और उन्हें धोखे में रखा गया। रैली केवल संजय लीला भंसाली की फिल्म के विरोध में थी, जिसमें मां पद्मावती को गलत ढंग से पेश किया गया है। उसके अलावा इस रैली में किसी अन्य मुद्दे पर चर्चा नहीं होनी थी। इसके बाद अब अम्मू से राजपूतों का कोई लेना-देना नहीं है। स्वाभिमान रैली में रामपाल समर्थकों के पक्ष में नारेबाजी करने के चलते राजपूत समुदाय अम्मू से नाराज है।

भूम सिंह राणा सहित अन्य पदाधिकारियों ने स्पष्ट कर दिया है कि 25 दिसंबर को भिवानी में जो रैली करने की घोषणा उनके मंच से की गई थी, उस रैली में राजपूताना विरासत जागृति मंच का कोई सदस्य व पदाधिकारी हिस्सा नहीं लेगा।