News Description
रेलवे की सुरक्षा में सेंध : चलती ट्रेन से पटरी पर गिरे सिलेंडर से हड़कंप

अंबाला : रेलवे की सुरक्षा में एक बार फिर सेंध लग गई है। प्रतिबंध होने के बावजूद गैस सिलेंडर ट्रेन में ले जाया जा रहा था, जो मोहड़ी रेलवे स्टेशन के निकट पटरियों के बीच में गिर गया। बीती रात बुधवार करीब 2 बजे अप लाइनों में छोटा गैस सिलेंडर मिलने की सूचना से हड़कंप मच गया। गेटमैन गुरनाम ¨सह ने सिलेंडर देख कंट्रोल रूम में फोन पर सूचना दी। इसके बाद आरपीएफ-जीआरपी मौके पर पहुंची और जांच की। इस दौरान दिल्ली साइड से आने वाली ट्रेनों का कुछ देर के लिए संचालन रोक दिया गया और उसके बाद सिलेंडर के आसपास जांच की गई। इसके बाद सिलेंडर को वहां से आरपीएफ पोस्ट लाया गया। आरपीएफ मान रही है कि यह सिलेंडर किसी यात्री का चलती ट्रेन से गिरा है। हालांकि, सिलेंडर ट्रेन में कैसे आ गया, इसको लेकर वर्दीधारियों की कार्यशैली पर सवाल उठ गए हैं।

जानकारी के मुताबिक रात को करीब 2 बजे गेटमैन गुरनाम ¨सह अपनी पेट्रो¨लग पार्टी के साथ पटरियों की देखरेख कर रहे थे। जब किलोमीटर नंबर 194-3 के पास पहुंचे तो दिल्ली साइड से आने वाली अप लाइन में गैस सिलेंडर देखा। कंट्रोल रूम में इसकी सूचना दी, जिसके बाद आरपीएफ से एक एएसआइ, जीआरपी थाना प्रभारी रामबचन और अन्य रेलकर्मी भी मौके पर पहुंचे।

होते-होते टल गया बड़ा हादसा

गनीमत रही कि यह सिलेंडर खाली था और इसमें गैस नहीं थी। बावजूद इसके यह किसी ट्रेन से नहीं टकराया। सिलेंडर में खाली होने के बाद भी 100 ग्राम से 500 ग्राम तक गैस हर समय रहती है। ऐसे में अगर यह सिलेंडर ट्रेन से टकराकर फट जाता तो एक बड़ा हादसा हो सकता था। इस मामले में यह बात भी सामने आई है कि ट्रेनों में पटाखे, गैस सिलेंडर या कोई विस्फोटक चीज लेकर जाने पर सख्त मनाही है इसके बावजूद ट्रेन में सिलेंडर लेकर जाया जा रहा था। ऐसे कई अन्य कारण हैं जो कि यात्रियों की सुरक्षा पर भारी पड़ सकते हैं।

कोट

सूचना मिलते ही आरपीएफ और जीआरपी की टीम मौके पर पहुंच गई थी। सिलेंडर खाली था और उसमें गैस नहीं थी। जांच में सामने आया है कि चलती ट्रेन से किसी यात्री का यह सिलेंडर नीचे गिरा है जो कि पटरियों में पड़ा मिला है।