News Description
शहर की स्वच्छता से सम्बन्धित योजनाओं को सफल बनाने के लिए एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

पानीपत शहर की स्वच्छता से सम्बन्धित योजनाओं को सफल बनाने के लिए नगर निगम के तकनीकी कार्यालय में एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस कार्यशाला की अध्यक्षता नगर निगम की संयुक्त आयुक्त सुनीता भांखड़ ने की और यमुनानगर के सीएमजीजीए कर्णसिंह व पानीपत की सीएमजीजीए अक्षिता जैन ने स्वच्छता सुपरवाईजरों व कर्मचारियों को स्वच्छता मैप और स्वच्छता एप योजना को सुचारू रूप से चलाने का प्रशिक्षण दिया। 
कार्यशाला को सम्बोधित करते हुए नगर निगम की संयुक्त आयुक्त सुनीता भांखड़ ने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मन की बात के माध्यम से स्वच्छता मैप और स्वच्छता एप योजना की चर्चा की है। प्रदेश सरकार की भी नगर निगम व नगरपालिकाओं को स्वच्छ और स्मार्ट बनाना मुख्य प्राथमिकता है। सरकार ने हरियाणा के 35 शहरों में यह योजना लागू की है। इस योजना का प्रदेश के मुख्यमंत्री स्वयं निगरानी कर रहे हैं। इस योजना के तहत अब सुपरवाईजर को 48 घण्टें की अंदर ही मोबाइल एप पर आई शिकायत का समाधान करना होगा और चिन्हित स्थान से कचरा उठवाकर साफ हुए स्थान का फोटो वटसअप पर भेजकर अपने वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना देनी होगी। उन्होंने कहा कि इस समय नगर निगम के पास 38 सुपरवाईजर हैं। सभी के पास स्मार्ट फोन हैं। इस स्मार्ट फोन के माध्यम से किस प्रकार इस योजना को सफल बनाना है। इसी के दृष्टिगत इस कार्यशाला का आयोजन किया गया है। 
यमुनानगर के सीएमजीजीए कर्णसिंह ने प्रशिक्षण देते हुए कहा कि स्वच्छ भारत मिशन को सफल बनाना नगर निगम व नगरपालिकाओं के सभी अधिकारियों, सुपरवाईजरों और कर्मचारियों की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी है।  इस योजना का और अधिक प्रचार करवाने के लिए स्वच्छ मैप एप को पब्लिक लेवल पर लांच किया गया है ताकि शिकायतों का निवारण तुरन्त प्रभाव से हो सके। 
पानीपत की सीएमजीजीए अक्षिता जैन ने कहा कि पानीपत एक ऐतिहासिक, धार्मिक, औद्योगिक और व्यावसायिक शहर है। यहां भारत के सभी प्रदेशों के लोग रोजगार प्राप्त करने के लिए आते हैं। इसलिए इस शहर की स्वच्छता पर और अधिक ध्यान दिया जाना चाहिए और इस स्वच्छ मैप एप को आमजन को भी अपने एनड्रोयड या एपल मोबाईल फोन के गूगल या एपल प्ले स्टोर में से डाउनलोड कर लेना चाहिए।  स्वच्छता एप की सहायता से आम व्यक्ति अपने घर के आसपास पड़े कूड़े कचरे की फोटो खींचकर उस पर डाल सकता है, जिससे सफाई व्यवस्था को दुरूस्त करने में मदद मिलेगी। उन्होंने नगरवासियों से अनुरोध किया कि वे भी इस एप का प्रयोग सफाई व्यवस्था को आगे बढ़ाने में करें