News Description
नम‍कहराम हत्‍यारा: निवाला देनेवाली की ही उजाड़ी गोद, बच्‍ची की हत्‍या कर उसी के घर खाई रोटी

अंबाला। यहां छावनी क्षेत्र में बोह गांव में एक नमकहराम हत्‍यारे की घृणित करतूत ने इंसानियत से विश्‍वास डिगा दिया। लखनऊ से आए एक किशोर को जिस घर में पनाह मिली, जिस मां ने रोटियां खिलाईं उसने उसकी ही गोद उजाड़ दी। लड़के ने पहले महिला के हाथ से बनी रोटी खाई और फिर उसकी पांच साल की मासूम बेटी को अगवा कर उसे मार डाला। हद तो यह हो गई कि बच्‍ची की हत्‍या करने के बाद यह दरिंदा उसके घर आया और आराम से उसकी मां के हाथ से खाना खाया। इस युवक का स्‍कूल मेें दाखिला भी बच्‍ची के पिता ने ही कराया था।

लखनऊ के किशोर आरोपी बेहद शातिर है। बच्ची को अगवा करने से पहले और हत्या करने के बाद उसके घर में खाना खाया। उसने वारदात के बारे में भनक नहीं लगने दिया। बच्‍ची को अगवा करने से पहले उसने उसके घर में ही खाना खाया। उसकी हत्‍या करने के बाद भ् वह आराम से घर आया अौर दूसरी बार भी बच्ची की मां ने उसे खाना खिलाया।


बच्ची वैष्णवी के पिता अमित सूद छावनी में एक फोटोस्टेट मशीन और प्रोजेक्टर इत्यादि का काम करते हैं। उनके छोटे भाई का घर से 40 मीटर की दूरी पर ही जनरल स्टोर है। शाम करीब सवा चार बजे बच्ची दुकान पर अपने चाचा को चाय देने गई और मां मीनाक्षी सूद से कहा कि वह आज दो घंटे लेट दूध पीएगी और उसके बाद दादी के साथ मंदिर में कथा सुनने के बाद वापस घर आएगी। करीब सवा पांच बजे तक बच्ची घर वापस नहीं आई। मां ने बड़ी बहन हर्षिता को ढूंढने के लिए भेजा लेकिन वह नहीं मिली। परिजनों ने आस-पड़ोस में वैष्णवी को तलाशना शुरू कर दिया लेकिन कोई पता नहीं लगा।को कुछ दिन पहले बच्ची के पिता ने दी थी पनाह, कराया था ग्यारहवीं में दाखिला

इस घटना के बारे में जिसने सुना उसकी रूह कांप गई। देर रात शव बरामद कर पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया है। बच्ची का अपहरण करने से कुछ मिनट पहले ही आरोपी ने उसके घर में रोटी खाई थी। बच्ची को छोड़ने की एवज में उसने बीस लाख रुपये फिरौती भी मांगी थी।