# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
सरकार आने पर बुजुर्गों की पेंशन करेंगे दोगुनी : दुष्यंत चौटाला

इनेलोसांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि इनेलो सत्ता में आने पर प्राइवेट सेक्टर में 50 फीसदी आरक्षण किया जाएगा। पहली बार देश में ऐसा होगा कि गरीब परिवार की लड़की की शादी पर पांच लाख का कन्यादान, बिजली के बिल कम करने, बुजुर्गों की जो पेंशन जो है उसको डबल किया जाएगा। चौटाला मंगलवार को खटकड़ गांव में जनसंपर्क अभियान के तहत ग्रामीणों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में इनेलो की सरकार बनेगी और इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला प्रदेश के सीएम बनेंगे। इस मौके पर डॉ. रामचंद्र जांगड़ा, प्रदीप गिल, कृष्ण राठी, विश्ववीर नंबरदार, सूबे सिंह लोहान, नसीब घसो, केलो देवी, अजमेर वकील, सत्ता डूमरखां, महेंद्र लोधर, कृष्णा बधाना, भलेराम श्योकंद, अनुराग खटकड़, विक्की धनखड़ी, बलराज नगूरां, सुनील छापड़ा, राजू घोघडिय़ा, हवा सिंह घोघडिय़ा, बीरेंद्र कौशिक, जीवन छापड़ा, महिपाल बधाना, होशियार खटकड़,सूरजमल ग्रोवर, मनोज शर्मा मौजूद रहे। 

‘भाजपा को गुजरात में हार का डर’ 

पत्रकारोंसे बातचीत में सांसद दुष्यंत चौटाला ने कहा कि भाजपा को गुजरात चुनाव में हार का डर है। गुजरात चुनाव के परिणामों से देश की राजनीति प्रभावित होगी। 28 प्रतिशत जीएसटी लागू करने के बाद गुजरात चुनाव से पहले जीएसटी की दरों में कमी करना साफ संकेत हैं, कि भाजपा को चुनाव में हार का डर है। जीएसटी के दरों में की कई कमी से साफ है कि बिना किसी तैयारी के जीएसटी लागू की गई। सरकार द्वारा बनभौरी मंदिर को सरकार के अधीन लेने के फैसले पर सांसद ने कहा कि सरकार बनभौरी मंदिर को सरकार के अधीन ले रही है। सरकार को चाहिए कि वो अपने इस फैसले पर पुनर्विचार करे।