News Description
धुंध सीजन में स्ट्रीट लाइटें खराब अंधेरे में बढ़ सकती हैं वारदात

सर्दीशुरू होते ही लोड से जहां बिजली के फॉल्ट बढ़ गए हैं। वहीं धुंध से कारण रोजाना अनेक स्ट्रीट लाइटें खराब हो हो रही हैं। शहर में अनेक स्थानों पर लाइटों की कमी होने के कारण भी अंधेरा रहता है। इससे चोरी अन्य आपराधिक घटनाएं बढ़ने का भी अंदेशा बना रहता है। शहर के वार्डों में लाइटों के लगे होने के बावजूद अनेक जगहों पर स्ट्रीट लाइटों की जरूरत है। 

इन कालोनियों में कही लाइट ही खराब है तो कहीं इसकी वायरिंग स्विचों में खराबी होने के कारण कनेक्शन टूटे हुए हैं। इसके साथ-साथ अब सर्दी के मौसम में रोजाना दिन जल्दी ढलने के कारण भी गलियों मुख्य मार्गों पर लगी लाइटों की जरूरत गर्मी की अपेक्षा अधिक हो जाती है। लगी हुई लाइटों पर लोड बढ़ने के कारण भी अनेक स्ट्रीट लाइटों में खामियां सामने रही हैं। खराब लाइटों के कारण आसपास के क्षेत्रों में शाम ढलते ही अंधेरा हो जाता है। जोकि आपराधिक किस्म के लोगों के लिए सहूलियत और स्थानीय लोगों के लिए परेशानी का सबब बन सकता है। इस समय शहर की अंदरूनी आउटर कालोनियों में अनेक स्थानों पर लाइटों की आवश्यकता है। पुरानी कालोनियों में भी कंडम हो चुकी लाइटों को मरम्मत की सख्त जरूरत है। कई कालोनियों में सड़क सीवरेज की सुविधा भी अभी नहीं है लेकिन प्राथमिकी के तौर पर स्ट्रीट लाइटों का होना नितांत आवश्यक है। इन गलियों में कच्चा रास्ता ऊबड़-खाबड़ जगह होने के कारण रात्रि के दौरान राहगीरों स्थानीय लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।