News Description
दोहरे हत्याकांड के बाद गांव बिलोचपुर-टप्पा में तनाव

पलवल : भूमि विवाद व राजनीतिक प्रतिष्ठा की लड़ाई ने कभी गुरु-चेले रहे संतराज व सत्ते को दुश्मन बना दिया। सत्ते किसी समय में संतराज की टीम का ही सदस्य हुआ करता था। बीच में एक बार बिगड़ी भी, लेकिन बाद में फिर से दिल मिल गए। संतराज ने ही हत्या के एक मामले में जेल में बंद सत्ते को छुड़ाने के लिए भूमिका निभाई थी, तथा उनका फैसला करा दिया था।

ग्रामीण लोगों की माने तो विवाद का मुख्य कारण खादर क्षेत्र में 250 एकड़ के करीब जमीन का विवाद है। करीब 15 साल से इस जमीन के ऊपर विवाद चला आ रहा है। कई बार इस जमीन को लेकर इन हत्याओं के अलावा गोलीबारी जैसी वारदातें हो चुकी हैं। फसल कटाई के समय तो हर साल एक-दो बार गोलीबारी जैसी वारदातें हो जाती हैं। जिसके कारण गांव में अक्सर तनाव बना रहता है। कई बार शिकायत ग्रीवेंस कमेटी में भी की गई है, लेकिन उक्त जमीन का विवाद खूनी संघर्ष की वजह बनता ही रहता है

गांव बिलोचपुर-टप्पा में जमीनी विवाद तथा राजनीतिक प्रतिष्ठा की लड़ाई में अब तक पांच हत्याएं हो चुकी हैं।