News Description
दिल्ली के बस ऑपरेटर की गोली मारकर हत्या

 बहादुरगढ़ :दिल्ली के एक मिनी बस ऑपरेटर की मंगलवार को बहादुरगढ़ बस स्टैंड के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी गई। एक गोली लगने के बाद वह जान बचाने के लिए भागा मगर गली में गिरा तो हमलावरों ने वहीं ढेर कर दिया। वारदात के बाद आरोपी भाग निकले। पुलिस ने उनकी पहचान कर ली है। हत्या के पीछे पुरानी रजिश वजह बनी। मृतक का भी आपराधिक रिकॉर्ड रहा है। पुलिस ने केस दर्ज कर जाच शुरू कर दी है।

दिल्ली के रानीखेड़ा के रहने वाले जयबीर उर्फ मिंटू (34) ने टीकरी बॉर्डर से पीरागढ़ी तक चलने वाली मिनी बस किराये पर ले रखी थी। ड्राइवर मुकेश के साथ वह मंगलवार को बस लेकर करीब 11 बजे बहादुरगढ़ में आया था। यू टर्न लेकर उन्होंने स्टैंड के बाहर बस रोकी। जैसे ही मिंटू बस से उतरा तो पहले से ताक में खड़े दो हमलावरों ने उस पर गोली चला दी। एक गोली लगने के बाद मिंटू मिठाइयों की दुकान में घुसा और पीछे की तरफ गली में निकल गया। हमलावर भी उसका पीछा करते रहे। करीब 200 मीटर भागने के बाद वह गली में गिर गया। वहीं पर हमलावरों ने उसे मौत के घाट उतार दिया और गली में अंदर की तरफ भागे, लेकिन रास्ता बंद मिला। पहले तो हमलावर एक घर की छत पर चढ़े, मगर बाद में वापिस आए और शमशान घाट की दीवार फादकर फरार हो गए। एक अभियुक्त की चप्पल भी गली में छूट गई। मौके पर मौजूद लोगों में से कुछ ने हमलावरों को पकड़ने की कोशिश की, मगर वे हाथ नही आए।

सूचना मिलते ही पुलिस की कई टीमें मौके पर पहुची। फोरेसिंक टीम ने भी पहुचकर जाच की।

रजिश में हत्या, अभियुक्तों की हुई पहचान

पुलिस के मुताबिक मिंटू की हत्या रजिश में की गई है। यह हत्या दिल्ली के घेवरा के रहने वाले कुख्यात कर्मबीर उर्फ काला के इशारे पर की गई। कर्मबीर और मिंटू के बीच दुश्मनी थी। कुछ समय पहले कर्मबीर की मा पर हमला किया गया था। इसमें उसका एक हाथ कट गया था। इस हमले में मिंटू का नाम आया था। तब से ही कर्मबीर ने उसे जान से मारने की धमकी दी थी। बीच में कर्मबीर जेल से बाहर आया, लेकिन हथियारों समेत पकड़ा गया। आरोप है कि अब कर्मबीर ने अपने साले हर¨वद्र उर्फ मोनू निवासी बुपनिया, झज्जार तथा सावदा जेजे कॉलोनी दिल्ली के नान्हा के जरिये मिंटू की हत्या करवाई है। आरोपियों की तलाश में छापेमारी की गई, लेकिन वे हाथ नही आए। शाम को पोस्टमार्टम के बाद मिंटू का शव वारिसों को सौंपा गया।