News Description
लैदर फैक्टरी में लगी आग, पांच घंटे में पाया गया काबू

झज्जर : जिला मुख्यालय से करीब दस किलोमीटर दूरी पर स्थित दुलीना औद्योगिक क्षेत्र में स्थित एक लैदर फैक्टरी में रविवार की रात को अचानक आग लग गई। यहां कार्यरत चौकीदार ने करीब चार बजे जब फैक्टरी के पिछले हिस्से में धुआं तथा आग की लपटें निकलती दिखाई दी तो घटना की सूचना कंपनी के मालिक को दी। उसके बाद जानकारी दमकल केंद्र व पुलिस को दी गई। सूचना मिलते ही दमकल केंद्र की दो गाड़ियां झज्जर से और दो गाड़ियां बहादुरगढ़ से मौके पर पहुंची। दमकल केंद्र के कर्मचारियों ने करीब पांच घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। बताया जा रहा है कि आगजनी की इस घटना में करीब दो करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। आग लगने का कारण शॉर्ट सर्किट के बताया जा रहा है।

दिल्ली के पश्चिमी विहार निवासी ललित कुमार ने दुलीना औद्योगिक क्षेत्र में लैदर डाई की फैक्टरी का लगाई हुई है। अरोड़ा इंटरनेशनल के नाम की यह फैक्टरी रविवार को अवकाश के कारण बंद थी और एक गार्ड ही था। कंपनी के मालिक ने बताया कि उनकी कंपनी में लैदर को डाई की जाती है। यहां पर दूसरी कंपनियों की तरफ से डाई के लिए लैदर आता है और डाई के बाद उसके सुखा कर वापस भेज दिया जाता है। रविवार को वे दिल्ली गए हुए थे तो सुबह करीब चार बजे फोन आया कि फैक्टरी के पिछले हिस्से में आग लगी हुई है। फैक्टरी के इस हिस्से में गोदाम बना हुआ था। इसी हिस्से में लैदर, केमिकल व मशीनें थी। रात के समय लगी आग के कारण उनका करीब दो करोड़ का नुकसान हुआ है। हालांकि जिस समय कंपनी में आग लगी उस समय कर्मचारी फैक्टरी में नहीं थे।

दमकल केंद्र के कर्मचारियों का कहना है कि आग पर काबू पाने के लिए काफी प्रयास किए गए, लेकिन केमिकल की वजह से बार-बार आग भड़क रही थी। जिसके कारण आग पर काबू पाने में काफी समय लगा। दमकल की चार गाड़ियों ने करीब पांच घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। उधर, नुकसान का वास्तविक आंकलन सर्वे होने के बाद ही पूरी तरह से हो पाएगा।