News Description
जगमग योजना से बड़ोपल को फायदे की बजाय हुआ नुकसान

फतेहाबाद : प्रदेश में जगमग योजना के जरिये गांवों में बिजली सप्लाई में बढ़ोतरी की गई है। मगर गांव बड़ोपल ऐसा हैं, जहां जगमग योजना का फायदा नहीं, बल्कि नुकसान हुआ है। गांव बड़ोपल में बिजली सप्लाई कम हुई है। योजना से जुड़ने के कारण अब गांव में 14 घंटे बिजली आती है। इससे पहले गांव में 20 से 22 घंटे बिजली सप्लाई होती थी। अब जगमग से जुड़ने से ग्रामीणों को 7 घंटे बिजली सप्लाई कम मिल रही है।

मीणों ने कहा कि जल्द ही उनकी समस्या का समाधान नहीं किया गया तो वे बिजलीघर के बाहर भी प्रदर्शन करेंगे। ग्रामीण सुभाष गोदारा, पूर्व सरपंच नत्थूराम मांझू, विनोद, सुभाष, रामकुमार, छोटूराम, रण¨सह, छेलूराम आदि ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि प्रशासन उनके गांव के साथ भेदभाव कर रहा है।

जगमग योजना से गांव को जोड़कर बिजली सप्लाई सात घंटे घटा दी। पंचायत की जमीन पर बिजलीघर होने के बाद भी ग्रामीणों को पूरी बिजली नहीं दी जा रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि 24 घंटे के बिजली देने का आश्वासन देकर गांव में केबल बिछाई और पिलर बाक्स में मीटर लगवाएं। कुछ दिनों तक तो गांव में 22 घंटे बिजली दी गई। अब पिछले तीन महीनों से गांव को 14 घंटे ही बिजली दी जा रही है। दिन में दो से ढ़ाई घंटे बिजली सप्लाई दी जाती है।