# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
3 राज्यों की संयुक्त कमेटी की देखरेख में लिए जाएंगे घग्गर से दूषित पानी के सैंपल

केंद्रीयप्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की देखरेख में घग्गर नदी के दूषित पानी के सैंपल लिए जाएंगे। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश चंडीगढ़ की संयुक्त कमेटी गठित की गई है। इसके लिए अलग-अलग टीमें बनाई गई हैं। पंजाब हरियाणा की संयुक्त टीम केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की देखरेख में घग्घर नदी के पानी के सैंपल लेगी। इसके लिए 6 प्वाइंट चिह्नित किए गए हैं, जिनमें बुढलाडा रोड स्थित पुल के दोनों ओर का हिस्सा, सरदूलगढ़़ में मानसा रोड में घग्गर नदी के पुल का प्वाइंट, सिरसा में ओटू हेड चयनित किए गए हैं। इन सभी जगहों से टीमें घग्घर के पानी के सैंपल लेकर जांच के लिए दिल्ली लैब में भेजेगी। वहां से रिपोर्ट आने के बाद ही घग्घर नदी के प्रदूषण की मात्रा का पता चलेगा। रतिया, सरदूलगढ सिरसा क्षेत्र में सैंपल के लिए पंजाब प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड बठिंडा हरियाणा प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड हिसार की टीम को जिम्मेवारी सौंपी गई है। 

घग्गर नदी में हिमाचल, पंजाब हरियाणा की विभिन्न फैक्ट्रियों का केमिकलयुक्त दूषित पानी रहा है। कई शहरों में सीवरेज का पानी भी नदी में बिना ट्रीट किए छोड़ा जा रहा है, जिससे प्रदूषण बढ़ रहा है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की टीम द्वारा हिमाचल प्रदेश, चंडीगढ़, पंजाब, हरियाणा में दर्जनों जगह सैंपल के लिए चयनित की है। इसमें रुके हुए पानी, चलते पानी, भूमिगत पानी के सैंपल लिए जाएंगे, जिसमें पता किया जाएगा कि नदी में दूषित पानी की मात्रा किस स्केल की है और भूमिगत पानी पर इसका क्या असर पड़ रहा है। पिछली बार लिए गए सैंपलों से मिलान किया जाएगा, जिससे पता चलेगा कि नदी के पानी में प्रदूषण की मात्रा घटी है या बढ़ी है और आसपास के वातावरण भूमिगत पानी पर इसका क्या असर पड़ा है। इसके बाद राज्य सरकारों को प्रदूषण नियंत्रण बचाव बारे हिदायत जारी की जाएगी।