# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
सर्द हवाओं ने बदला मौसम का मिजाज

फरीदाबाद : सर्द मौसम की शुरुआत तो कार्तिक मास के साथ ही हो गई थी, पर दिन भर धूप निकली रहने से मौसम में वो ठंडक नहीं थी, जिससे सर्दी का अहसास हो। रात के समय हल्की ठंड जरूर रहती थी और लोग आधी बाजू की स्वेटर आदि में नजर आते थे, पर सोमवार को मौसम पूरी तरह से बदला नजर आया। ठंडी हवाओं ने मौसम को अब पूरी तरह से ठंडा कर दिया है।

घर से बाहर निकले लोगों के बदन पर गर्म जैकेट, पूरी बाजू की स्वेटर, सूट, शॉल और बच्चों के सिर पर टोपी नजर आई। हालांकि थोड़ी देर धूप भी निकली। स्वास्थ्य विशेषज्ञ कहते हैं कि इस मौसम में बुजुर्गों तथा बच्चों की सेहत पर खास ध्यान देने की जरूरत है। ऐसे मौसम में सांस संबधी परेशानियां बढ़ती हैं।

तापमान में दर्ज की गई गिरावट

दिसंबर महीने की शुरुआत में भी तापमान अधिकतम कभी 27, कभी 28 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया जा रहा था, पर सोमवार को इसमें 2 डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गई। अधिकतम तापमान 25 डिग्री और न्यूनतम 14 डिग्री रिकार्ड किया गया। गत वर्ष यानी 2016 में 4 दिसंबर को अधिकतम तापमान 27 डिग्री दर्ज किया गया था।

यह मौसम स्मॉग वाला भी है। प्रदूषित वातावरण में सांस के पुराने रोगियों को सांस लेना मुश्किल हो जाता है। फेफड़े की बीमारियां बढ़ने लगती हैं तो कई बार आंखों में भी जलन पैदा हो जाती है। अब ठंड भी पड़ने से श्वास रोगियों पर दोहरी मार पड़ेगी। सूर्य की किरणें न मिलने से शरीर को पर्याप्त ऊर्जा नहीं मिल पाती। जो लोग पहले से सांस के रोगी हैं, वे घर से बाहर न निकलें। कई बार प्रदूषित वातावरण में सांस की नली सिकुड़ जाती है और शरीर को ऑक्सीजन नहीं मिल पाती।