News Description
जीवन का एक-एक पल मूल्यवान : नरेश नाथ

 जीवन का एक-एक पल मूल्यवान है। समय निकालकर प्रभु भजन अवश्य करना चाहिए। जीवन के हर पल से कुछ न कुछ सीखने को भी मिलता है। इंसान को उसका जीवन ही सब कुछ सिखाता है। यह इंसान पर निर्भर है कि वह सही राह पर चलता है या उससे भटक जाता है। यह प्रवचन गुरु गोरखनाथ धाम के योगी बाबा नरेश नाथ महाराज ने दिए।

उन्होंने कहा कि जैसे घना कोहरा छंटता है और राह नजर आने लगती है। उसी प्रकार इंसान के जीवन से दुख धीरे-धीरे दूर होता है और सुख की राह बन जाती है। उन्होंने कहा कि ऐसी राह तभी मिलेगी जब इंसान परोपकार करेगा और दूसरे के सुख को अपना सुख समझेगा।

नरेश नाथ ने कहा कि अक्सर इंसान यही लालसा रखता है कि उसे कुछ न कुछ मुफ्त में मिल जाए। वह ऐसी वस्तु के लिए भटकता रहता है जबकि प्रभु का सिमरन बिल्कुल मुफ्त मिलता है। उसे पाने की लालसा कभी नहीं रखता है। यह लालसा पाल ली जाए तो किसी वस्तु के लिए भटकने की आवश्यकता ही नहीं है।

 
 

 

उन्होंने कहा कि प्रभु का भजन करने में दिखावा या झूठ का कतई सहारा नहीं लेना चाहिए। ऐसे इंसान को केवल कष्ट के अलावा कुछ नहीं मिलता है। ऐसे कर्म करने चाहिए जिसका गवाह केवल परमात्मा ही हो। गुप्त रूप से किया गया भजन बड़े तप के समान होता है।

इस मौके पर तेजनाथ, सरपंच संजीव अरोड़ा, जवाहर बंसल, सुरेश गोयल, केवल छाबड़ा, डॉ. विवेक अरोड़ा, डॉ. पाल, रामचंद्र कोमल, महक कुमार, हन्नी कुमार, कुलयश राज मौजूद रहे।