News Description
प्रकृति का मौलिक गुण है स्वच्छता : रामफल

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी सभी रचनात्मक कामों में सफाई को महत्वपूर्ण स्थान देते थे। उनके अनुसार सफाई प्रकृति का एक मौलिक गुण है। प्रकृति अपने आप गंदगी को नष्ट कर देती है। मनुष्य को सफाई के प्रति और सजग रहना चाहिए। यह बात सामाजिक कार्यकर्ता संजय रामफल ने रविवार को न्यायालय परिसर में स़फाई अभियान चलाते हुए कही। उन्होंने कहा कि प्रत्येक मनुष्य, फिर चाहे किसी पेशे का हो, किसी न किसी रूप में अपने घर द्वार की सफाई करता है। घर के बाहर, समाज में अथवा दूसरों से मिलने के लिए साफ कपड़े पहनकर जाने के पीछे सफाई संबंधी एक सामाजिक प्रतिष्ठा छिपी है। हम सब के स्वस्थ जीवन के लिये इस अभियान में हमें मिलकर भाग लेना चाहिए। इसकी शुरुआत घरों, स्कूलों, कॉलेजों, समुदायों, कार्यालयों, संस्थानों से हो जिससे कि देश में व्यापक स्तर पर स्वच्छ भारत क्रांति हो। इस मौके पर नॉर्थ इंडिया फिल्म प्रोड्यूसर रमेश ने कहा कि सफाई एक स्वस्थ समाज की पहचान होती है। इसमें सभी की भागेदारी जरूरी है। स्वच्छता अभियान में प्रवीण रोहिल्ला, रमेश, अमित सहित कई युवा शामिल थे।