# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
इस सप्ताह से धुंध गहराने के आसार, रेलवे ने जारी की गाइडलाइन

मौसमविभाग के अनुसार इसी सप्ताह से धुंध भरा मौसम शुरू होने के आसार है। यह मौसम एक माह तक चलेगा। इसे देखते हुए रेलवे ने भी धुंध के दौरान ट्रेनों और यात्रियों के सुरक्षा के लिए उत्तर रेलवे ने गाइड लाइन जारी कर दी है। इसके तहत परिचालन से जुड़े रेल कर्मचारियों को नियमों की सख्ती से पालना करने को कहा गया है। 

दिल्ली एनसीआर के सभी रेलवे स्टेशन प्रबंधकों को पत्र भेजकर इसकी जानकारी दी जा रही है। यही नहीं दिल्ली रोहतक रेलवे लाइन पर अधिक ध्यान रखते हुए यहां पहले से ही नई गाइड लाइन पर काम करना शुरू कर दिया है। दिल्ली डिविजन के सीनियर डिवीजनल सेफ्टी मैनेजर द्वारा जारी की गई इस गाइड लाइन पर काम भी शुरू हो गया है। 

बहादुरगढ़ में हर दूसरे दिन बरेली एक्सप्रेस हो रही रद्द 

सर्दीशुरू होते ही रेल में सफर करने वालों की परेशानी बढ़ने लगी है। रविवार को भी सवारी एक्सप्रेस सभी रेल गाड़ियां अपने तय समय से आधे से एक घंटे देरी से पहुंची। लोगों को रेलगाडिय़ों के लेट होने की वजह से दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि, उत्तर रेलवे ने तैयारियां शुरू कर दी हैं लेकिन इस बार भी कोई नई तकनीकी नहीं है। फिर से रेलवे जीपीएस सिस्टम के सहारे ट्रेनों को धकेलने का काम करेगा। लोगों की परेशानी को देखते हुए ही रेलवे ने दावा किया है कि इस बार यात्रियों को दिक्कतें नहीं आएंगी। इस बार भी ट्रेनें जीपीएस और पटाखा सिस्टम शुरू करने की तैयारी की गई है। सर्दियों के मौसम में 60 से ऊपर की गति में सफर नहीं तय कर पाती हैं। इसकी वजह से ट्रेनें लगातार लेट होती हैं या रद्द हो जाती हैं। 

स्टेशन के नजदीक सफेद लाइन की मार्किंग 

रेलअधिकारियों के मुताबिक इसका मकसद यात्रियों को सुरक्षित उनके गंतव्य तक पहुंचाना है। हालांकि इस मार्ग पर अभी कोहरे जैसे हालात नहीं है पर इसी सप्ताह ऐसे हालात बनने की संभावना प्रकट की जा रही है। इसी कारण कोहरे से निपटने की तैयारी अभी से की जा रही है। रेल अधिकारियों का मानना है कि समय रहते तैयारियां पूरी होने से कोहरे में ट्रेनों के परिचालन में दिक्कत नहीं होगी। इन आदेशों में स्टेशन पर डेटोनेटर की उपलब्धता, स्टेशनों के नजदीक सफेद लाइन की मार्किंग और सिग्नल के पास वार्निंग बोर्ड लगाना मुख्य है। इसके साथ साथ सिग्नलों पर रिफ्लेक्टिंग पेंट्स लगाने का निर्देश दिया गया है। धुंध प्रभावित क्षेत्र में लोको मोटिव के पास फॉग लैंप की उपलब्धता आवश्यक की गई है। फॉग के दौरान काम करने वाले रेलकर्मियों की नियमित काउंसलिंग करना मुख्य कार्य है। प्लेटफॉर्म पर फॉग पोस्ट हट बनाने के साथ साथ सिग्नल के पास सिगमा बोर्ड और स्पीड लिमिट का बोर्ड लगाना अनिवार्य किया गया है। स्टेशन मास्टर धुंध तभी घोषित करेगा जब उसने 180 मीटर से सिग्नल का परीक्षण कर लिया हो। वीटीओ से 180 मीटर दूर