# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
कमेटी डालना जान की मुसीबत, दबाव में आकर जहर खाने से एक की मौत

रोहतक :आपस में मिलकर कुछ लोग सहमति से एक ग्रुप बनाते हैं। इसमें बारी-बारी से कुछ पैसा जमा किया जाता है। पैसे इकट्ठा होने पर ग्रुप में से कोई एक व्यक्ति अपने काम के लिए पैसे ले सकता है। बाद में वह उस धनराशि के बदले किश्त के रुप में पैसे जमा करता रहता है। इसे कमेटी कहते हैं।

पैसों को जमा करना यानी कि कमेटी डालना और पैसों को लेना अर्थात कमेटी उठाना। अब यह कमेटी का सिस्टम लोगों की जान के लिए मुसीबत बनता जा रहा है। जहां दो साल पहले कमेटी को लेकर उठे विवाद में एक युवक की चाकुओं से गोद कर हत्या कर दी गई थी, वहीं अब एक युवक ने जहर खाकर अपनी जान दे दी। चाकुओं से गोद कर युवक की हत्या के मामले में कोर्ट ने आरोपियों को दोषी माना है। अब इसमें सात दिसंबर को आरोपियों को सजा सुनाई जाएगी। वहीं, जहर खा कर जान देने वाले युवक ने एक सुसाइड नोट भी छोड़ रखा है। पुलिस ने नोट को अपने कब्जे में ले लिया है। मामले की जांच की जा रही है।

कलानौर थाना क्षेत्र के मसूदपुर गांव के रहने वाले कृष्ण ने पुलिस को बताया कि उनके बड़े बेटे ने बुधवार को जहर खा लिया। दरअसल, काहनौर में जूते-चप्पलों की दुकान करने वाले सोनू ने कमेटी डाल रखी थी। इस कमेटी में कई संख्या में लोग थे। इसमें आरोप है कि डॉ. ढाका, संदीप निवासी गढ़ी और सोनू मोबाइल वाले ने कमेटी उठा ली और कमेटी से पैसे ले लिए। इसके बाद कमेटी की जो किश्त बनती थी, वो इन तीनों ने नहीं दी। साथ ही, कमेटी की किश्त जमा करने के लिए जूते-चप्पलों की दुकान करने वाले सोनू के ऊपर दबाव बनाने लगे। इससे सोनू तनाव में रहने लगा। फिर, 29 नवंबर को दबाव में आकर सोनू ने जहरीला पदार्थ खा लिया। तबियत खराब होने पर परिजन सोनू को लेकर पीजीआइ में पहुंचे। जहां दो दिन बाद इलाज के दौरान शुक्रवार को सुबह सोनू की मौत हो गई। पुलिस को सोनू के परिजनों ने सुसाइड नोट भी सौंपा है।