# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
कानूनी जागरूकता शिविर में बताए मानवाधिकार

पलवल : जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण के तत्वावधान में शुक्रवार को डीएवी पब्लिक स्कूल में कानूनी जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। विश्व एडस दिवस के अवसर पर आयोजित इस शिविर में पैनल अधिवक्ता जगत ¨सह रावत, नवीन रावत व इंद्रजीत पीएलवी ने छात्रों को कानूनी जानकारी दी। अध्यक्षता प्रधानाचार्या अलका गुप्ता ने दी।

जगत ¨सह रावत ने कहा कि एड्स एक गंभीर बीमारी है, लेकिन एड्स पीड़ित के भी मानवाधिकार होते हैं। उन्हें उपचार से इंकार, रोजगार से हटाना, कानूनी प्रतिकार तक पहुंच की कमी, समाज तथा परिवार से बहिष्कार करना उनके मानवाधिकारों का अतिक्रमण है। उन्होंने एड्स बीमारी के लक्षण व उससे बचाव तथा एड्स दिवस के इतिहास के बारे में बताया।

नवीन रावत ने प्राधिकरण की सेवाओं, नालसा योजनाओं व बच्चों से जुडे कानूनी अधिकारों के बारे में जागरूक किया। प्रधानाचार्या अलका गुप्ता ने कहा कि गंभीर बीमारी से घबराना नहीं चाहिए, बल्कि डटकर मुकाबला करना चाहिए। हमें मिथकों पर ध्यान न देते हुए। हमें अपने अधिकारों के साथ - साथ कर्तव्यों का पालन भी करना चाहिए। शिक्षित होने के साथ संस्कारवान होना आवश्यक है। हमें एक दूसरे के बारे में जागरूक रहना होगा, चाहे वह कोई स्वस्थ है या किसी भी बीमारी से ग्रसित है। शिविर में समाज सेवी यशपाल मंगला ने भी विचार व्यक्त किए। इससे पहले शिविर का शुभारंभ दीप प्रज्वलित करके व समापन राष्ट्रीय गान के साथ किया गया। अतिथियों को पौधे भेंट किए गए।