# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
17 साल पुरानी व्यवस्था से ट्विन सिटी में घटा पीने का नहरी पानी

अंबाला :

ट्विन सिटी के प्रत्येक घर तक जलापूर्ति विभाग पीने के लिए जिस तरह नहरी पानी पहुंचाने के लिए पाइप लाइन का जाल बिछा रहा है उसके मुताबिक वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट में वॉटर ट्रीट करने की क्षमता कम पड़ने लगी है। बीते 17 साल से छावनी में प्रतिदिन 20 लाख गैलेन तो वहीं शहर में 54 लाख गैलेन पीने का पानी ही ट्रीट हो पा रहा है

पानी की किल्लत उस समय में ज्यादा बढ़ जाती है जब सतलुज यमुना ¨लक नगर की नरवाना ब्रांच से एक दिन पानी की सप्लाई में कटौती हो जाएं। इसका असर ट्विन सिटी की लाखों की आबादी अप्रैल माह में झेल चुकी है। विभाग की तरफ से छावनी की ढ़ाई लाख की आबादी के लिए घसीटपुर में वॉटर ट्रीटमेंट प्लांट लगा हुआ तो वहीं अंबाला शहर की तीन लाख की आबादी पर पुरानी कचहरी से पीछे यह पानी को ट्रीट करने के तीन ट्रीटमेंट प्लांट लगे हुए हैं।

फिर भी जलापूर्ति विभाग छावनी में नहरी पानी की ट्रीटमेंट क्षमता को बढ़ाने की बजाए बूस्टर पंप लगाने की तरफ ज्यादा ध्यान दे रहा है।