News Description
नगर निगम में बदला जाएगा इनफोर्समेंट ¨वग का स्टाफ

आयुध डिपो के प्रतिबंधित 300 मीटर एरिया शहर में होने वाले अवैध निर्माण पर तेजी से कार्रवाई करने के लिए पिछले काफी दिनों से एक ही एरिया में लगे हुए फील्ड स्टाफ को इधर से उधर किया जाएगा। इसके लिए इनफोर्समेंट ¨वग में तैयारी चल रही है। इनफोर्समेंट ¨वग में अवैध निर्माण और अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए नगर निगम के चारों जोन में बाउंसर और जेई लगे हुए हैं। बाउंसर और कई जेई आउटसोर्स पर नियुक्त हैं।

निगम अधिकारियों के मुताबिक फिल्ड स्टाफ अवैध निर्माण करने वालों और कई बिल्डरों के साथ साठगांठ होने के चलते सभी अवैध निर्माण के खिलाफ कार्रवाई करने में परेशानी आ रही है। बाउंसर और फिल्ड स्टाफ की मिलीभगत के कारण कई कॉलोनियों में धड़ल्ले से अवैध निर्माण किए जा रहे हैं। इनफोर्समेंट ¨वग के उच्चाधिकारी अब फिल्ड स्टाफ को इधर से उधर करने की तैयारी कर रहा है।

इनफोर्समेंट में लगे हैं 50 बाउंसर: डीटीपी इनफोर्समेंट टीम के चारों जोन में 50 बाउंसर लगे हुए हैं। इसके अलावा फील्ड टीम में आठ जूनियर इंजीनियर की ड्यूटी भी लगी हुई है। नगर निगम के अधिकारियों के मुताबिक इनफोर्समेंट ¨वग के फील्ड स्टाफ पर नजर रखी जा रही है। इस स्टाफ का एरिया बदला जाएगा।

सी¨लग के लिए एसडीओ ने मांगी पावर: अवैध बि¨ल्डग या निर्माण को सील करने की पावर पहले निगमायुक्त के पास थी। जो अब संयुक्त आयुक्तों को दे दी गई है। अवैध निर्माण होने की सूचना मिलने पर संयुक्त आयुक्तों से परमिशन के लिए फाइल भेजी जाती है। कई बार इस परमिशन में लंबा वक्त लगने के कारण अवैध निर्माण जारी रहता है और बि¨ल्डग बनकर तैयार हो जाती है। एसडीओ इनफोर्समेंट अमित ने बताया कि सी¨लग की पावर के लिए पत्र लिखा गया है।