# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
पेमेंट देने के बहाने प्रापर्टी डीलर को दिल्ली बुलाया, फिर गोली मारकर फेंक गए

फरीदाबाद।डेढ़ करोड़ रुपए के लेन-देन को लेकर पटना से एक प्रापर्टी डीलर को दिल्ली बुलाया गया। इसके बाद उनसे मारपीट की गई और दो गोलियां मारकर सूरजकुंड रोड किनारे फेंक दिया गया। कुछ समय बाद उसने दम तोड़ दिया। मरने से पहले मृतक ने घटना की सूचना परिजनों को दे दी थी। परिजनों ने इसकी सूचना सूरजकुंड थाने की पुलिस को फोन पर दी। इसके बाद पुलिस ने मौके पर जाकर शव को बरामद कर लिया। मृतक के साले की शिकायत पर हत्या सहित अन्य धाराओं के तहत पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

जैसा पुलिस को बताया

- बिहार के पटना निवासी रंजीत सिंह ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि उनके जीजा प्रवीन (37 साल) प्रापर्टी डीलर थे। पटना निवासी वरुण सिंह से जीजा ने किसी को एक प्लॉट दिलाया था। इस प्लॉट के बदले वरुण सिंह को डेढ़ करोड़ रुपए भुगतान किए गए थे, मगर वरुण प्लॉट की रजिस्ट्री नहीं करा रहा था।

- प्रवीण उससे लगातार रुपए वापस करने या रजिस्ट्री कराने के लिए दबाव डाल रहे थे। 29 नवंबर की शाम वरुण ने प्रवीण को पेमेंट करने के बहाने दिल्ली बुलाया। यहां दिल्ली एयरपोर्ट पर चार-पांच युवकों ने उन्हें बोलेरो कार में बैठा लिया। उन्हें फरीदाबाद की तरफ ले आए।

- कार में उनके साथ मारपीट की गई। उनके पैर तोड़ दिए गए। उन्हें दो गोलियां मारी गईं। इसके बाद उन्हें अधमरी हालत में सूरजकुंड-पाली रोड पर फेंक कर भाग गए। प्रवीन ने 30 नवंबर की सुबह पटना में पत्नी संगीता को फोन कर सारी घटना बताई। परिजनों ने फरीदाबाद पुलिस से संपर्क किया। इसके बाद 11 बजे प्रवीन ने फोन उठाना बंद कर दिया। देर शाम पुलिस ने उनका शव सूरजकुंड रोड से बरामद किया।

परिजनों का आरोप, कई पुलिसकर्मियों को फोन किया पर नहीं मिली मदद


- अगर सूरजकुंड थाने की पुलिस इस मामले को गंभीरता से लेती तो प्रवीन की जान बच सकती थी। प्रवीन के साले रंजीत के अनुसार 30 नंवबर की सुबह प्रवीन को अधमरी हालत में सूरजकुंड-पाली रोड पर फेंका गया था। पांच घंटे तक वह जिंदा थे।

- मोबाइल चालू होने के बाद भी पुलिस प्रवीन को तलाश नहीं कर सकी। 30 नवंबर की सुबह 6 बजे प्रवीन ने फोन कर पत्नी को बताया था कि पुलिस कंट्रोल रूम के 100 नंबर पर फोन कर घटना बता दी है। लेकिन पुलिसकर्मी उनसे लोकेशन पूछते रहे।

- पटना का होने की वजह से प्रवीन लोकेशन नहीं बता पाए। मृतक के साले रंजीत के अनुसार उन्होंने 30 नवंबर की सुबह 9.30 बजे प्रवीन की लोकेशन निकाली, जो पाली रोड आई थी। उन्होंने तुरंत पाली चौकी से संपर्क कर घटना के बारे में बताया। वहां से उन्हें दूसरे पुलिसकर्मी का नंबर दे दिया गया।

- रंजीत के अनुसार उन्होंने कई पुलिसकर्मियों को फोन कर सहायता मांगी, मगर कोई मदद नहीं मिली।