News Description
रैली िनकाल दिया संदेश, एड्स का सावधानी ही उपाय

विश्वएड्स दिवस पर विभिन्न शिक्षण संस्थाओं में इस जानलेवा बीमारी से संबंधित जागरुकता कार्यक्रम हुए। सिविल अस्पताल से इस उपलक्ष्य में स्वास्थ्य वर्करों ने समाजसेवी संस्थाओं से जुड़े लोगों के साथ रैली निकाली। 

सिविल अस्पताल में रैली निकाले जाने से पहले जिला सिविल सर्जन डाॅ. रमेश धनखड़ ने इस घातक बीमारी के लक्ष्ण बताकर इससे बचने का एक मात्र उपाय इसके बारे में सतत रूप से जागरुकता फैलाना ही बताया। डा. धनखड़ ने कहा कि एड्स रोगी एचआईवी पाजीटिव से आता है। ऐसे में लोग एचआईवी पाजीटिव हों। इसके लिए मुख्यत: चार बातों का जीवन में ध्यान रखना बहुत जरूरी है। इसमें असुरक्षित यौन संबंध हों। इसका ध्यान रखा जाए। एचआईवी संक्रमित किसी मरीज का रक्त किसी ओर को चढ़ाया जाए। इसी प्रकार पहले से इस्तेमाल की गई शेविंग ब्लेड या सुई का इस्तेमाल किया जाए। 

एड्स के बारे में विद्यार्थियों को किया जागरूक 

बहादुरगढ़ | एड्सदिवस पर गुरुवार को शहर के स्कूल कॉलेजों में कार्यक्रम आयोजित कर विद्यार्थियों को एचआइवी के बारे में जागरूक किया गया। वैश्य बीएड कॉलेज में एड्स जागरुकता व्याख्यान का आयोजन किया गया। प्राचार्या डॉ. आशा शर्मा ने कहा कि बहादुरगढ़ में लगातार एड्स के रोगी बढ़ते जा रहे हैं। जहां 2016 में 47 थे, वहीं इस साल बढ़कर 55 हो गए हैं। रेड क्रॉस क्लब के संयोजक प्रीत कमल, सदस्य दिव्या बंसल सुनीता रानी आदि मौजूद रहे। वहीं, गवर्नमेंट कॉलेज में प्रिंसिपल डॉ. अनिता गहलोत की अध्यक्षता में एक व्याख्यान का आयोजन किया गया।इस दौरान उन्होंने एड्स संक्रमण के प्रभाव इससे बचने के उपायों के बारे में बताया। 

जिले में हैं एक हजार प्रभावित 

डा.धनखड़ ने बताया कि झज्जर में करीब एक हजार एड्स रोगी हैं। इनकी संख्या बढ़े इसके लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम लगातार स्लम बस्तियों, ट्रांसपोर्ट क्षेत्र,स्कूल कालेजों में जा रही हैं। इसके बाद आर्श काउसंलर संदीप जांगड़ा की अगुवाई में रैली निकाली गई।