News Description
बरहाना गांव में घर आए सैनिक की हत्या केस में 13 दिन बाद भी नहीं हुई गिरफ्तारी

बरहानागांव के जोगेंद्र की हत्या मामले में 13 दिन बाद भी आरोपियों की गिरफ्तारी होने पर परिजन और ग्रामीण एसएसपी बी सतीश बालन से गुरुवार को मिले। जोगेंद्र सेना में था और 17 नवंबर को उसकी गांव में ही गोलियां मारकर हत्या कर दी गई। उस दिन शाम करीब साढ़े पांच बजे वो अपने बच्चों के साथ घुमने निकला था। जोगेंद्र को 14 गोलियां मारी गई थी। वारदात के बाद से पुलिस हत्यारों के बारे में कोई सुराग नहीं लगा सकी है। इसी मामले में ग्रामीण परिजन एसएसपी से मिले। ज्ञापन में मांग की गई कि इतना लंबा वक्त बीतने के बाद भी गोली चलाने वाले अपराधियों का सुराग नहीं लग पाया है। ज्ञापन में मांग की गई कि जोगेन्द्र के हत्यारों को जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाए।गोली लगने से घायल हुई जोगेंद्र की बेटी का दिल्ली में चल रहा इलाज 


बरहानानिवासी जोगेंद्र के पिता धर्मराज ने कहा कि वारदात में जोगेंद्र की बेटी को भी गोली लगी थी। उसका इलाज दिल्ली के आर्मी बेस अस्पताल में चल रहा है। वहीं हत्यारों की गिरफ्तारी होने से उसका पूरा परिवार असुरक्षा महसूस कर रहा है। उन्होंने कहा कि जोगेंद्र को मारने वालों का जल्द पता लगाया जाए और उन्हें गिरफ्तार किया जाए। जोगेन्द्र की बेटी का ईलाज आर्मी बेस अस्पताल दिल्ली में चल रहा है।