News Description
650 डेयरियां बनी मुसीबत , पानी-सीवरेज भी कर रहा बेहाल

रोहतक:स्वच्छता सर्वेक्षण सिर पर आ चुका है, लेकिन अधूरे प्रोजेक्ट पूरे अभी तक होते नहीं दिख रहे हैं। हालात यह हैं कि इनेलो सरकार में डेयरी शिफ्टिंग का मामला चल रहा है, लेकिन समाधान नहीं हो सका। अवैध मीट कारोबार पर भी लगाम नहीं। यह मामला भी अर्से से चल रहा है।

कच्चा बेरी रोड स्थित मीट मार्केट में 2015 में जर्जर स्लाटर हाउस तो तोड़ दिया, लेकिन दोबारा से निर्माण पर बात नहीं बन सकी। अवैध मीट कारोबारियों पर शिकंजा कसा गया, लेकिन फिर से सभ्ीा दुकानें खुल गई। हालात यह हैं कि धड़ल्ले से अवैध कारोबार हो रहा है। इनके साथ ही पानी-सीवरेज के कारण भी पिछली दफा स्वच्छता सर्वेक्षण में हमारी रैंक पिछड़ गई थी। हालांकि अफसर तो भिवानी रोड स्थित सॉलिडवेस्ट मैनेजमेंट प्लांट में कचरे से खाद बनाने की प्रक्रिया शुरू होने को बड़ी सफलता मान रहे हैं

अमृत योजना के करीब एक साल में महज डीपीआर तैयार हो सकी है। 34 वैध कॉलोनियों में पानी, सीवरेज, सड़क, यातायात, पार्क आदि कार्य होंगे। डेयरी शि¨फ्टग से लेकर सीवरेज-पानी के कार्यों को लेकर अधिकारी अमृत में काम होने की कह देते हैं। जनता का सवाल है कि आखिर ऐसे तो काम अटके रहेंगे।