# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
गीता महोत्सव में गाय लेकर पहुंचे संत गोपालदास,पुलिस ने हिरासत में लिया

रोहतक :रोहतक में गीता महोत्सव के समापन पर जमकर हंगामा हो गया। बृहस्पतिवार को शाम करीब सवा छह बजे संत गोपालदास कार्यक्रम स्थल के मुख्य गेट तक गाड़ी में गाय के साथ पहुंच गए। उनके साथ में करीब छह-सात अनुयायी भी थे। प्रशासन और पुलिस को संत के गेट तक पहुंचने की भनक लगी तो हड़कंप मच गया।

जिस गाड़ी में संत व अनुयायी गाय के साथ आए थे, पुलिस ने उस गाड़ी को चारों तरफ से मुख्य गेट पर ही घेर लिया। फिर संत को वापस जाने के लिए कहा। संत और अनुयायी नहीं माने तो पुलिस ने उन्हें गाड़ी से खींच लिया। पुलिस की कार्रवाई से गुस्साए संत अपनी ही गाड़ी के पहियों के बीच में लेट गए। पुलिस ने गाड़ी के नीचे से खींचा तो दूसरी तरफ सड़क पर लेट गए। पुलिस व संत के बीच जमकर नोंकझोंक भी हुई। करीब एक घंटे तक मनाती रही। बाद में पुलिस जबरन गाड़ी में बैठाकर ले गई। वहीं, प्रदेश सरकार पर संत ने गीता महोत्सव के नाम पर गायों और संतों का अपमान करने का आरोप लगाया है।

बृहस्पतिवार शाम करीब छह बजे संत गोपालदास सोनीपत रोड स्थित श्रीराम रंगशाला के मुख्य गेट के निकट गाड़ी लेकर पहुंच गए। गाड़ी में पीछे गाय खड़ी थी। जबकि गाड़ी में आगे संत और उनके अनुयायी बैठे हुए थे। जैसे ही संत गाड़ी के साथ मुख्य गेट तक पहुंचे तो पुलिस ने आनन-फानन में चारो तरफ से गाड़ी घेर ली। संत को समझाने का भी प्रयास किया, लेकिन संत ने दो टूक जवाब दे दिया। जिस हरियाणा में श्रीकृष्ण ने गीता का संदेश दिया था, मैं भी गाय के साथ कृषि मंत्री ओपी धनखड़ से वार्ता करने आया हूं। गायों के संरक्षण को लेकर हरियाणा सरकार काम करे, नहीं तो वह गाय को अंदर लेकर जाएंगे। पुलिस ने लाख समझाने का प्रयास किया।

करीब आधे घंटे तक पुलिस और संत में नोंकझोक होती रही तो संत को अनुयायियों सहित पुलिस ने नीचे उतारने की कोशिश की। यहां बता दें कि संत गोपालदास को भी उम्मीद थी कि कार्यक्रम में कृषि मंत्री ओपी धनखड़ आएंगे, कृषि मंत्री कार्यक्रम में पहुंचे नहीं।