News Description
आज के समय में मन जब तक शांत नहीं होगा, तब तक नहीं मिलेगी शांति : साध्वी

आजके समय में हर एक मानव अशांत है और शांति की तलाश में हर जगह भटक रहा है। लेकिन उसे शांति नहीं मिलती, क्योंकि वह शांति को बाहर से प्राप्त करना चाहता है। यह असंभव है। शांति मन से मिलेगी। जब तक मन शांत नहीं होगा, मनुष्य अशांत ही रहेगा। यह कहना है साध्वी सोनिया भारती का। 

वह दिव्य ज्योति जागृति संस्थान की ओर से आयोजित साप्ताहिक सत्संग में प्रवचन कर रही थीं। हनुमान गेट स्थित आश्रम में प्रवचन करते हुए साध्वी सोनिया भारती ने कहा कि महापुरुषों ने धार्मिक स्रोतों के माध्यम से बताया कि बिना पूर्णगुरु के कल्याण नहीं हो सकता। जब एक मनुष्य के जीवन में पूर्ण गुरु का पदार्पण होता है, तो गुरु अपने शिष्य के मस्तिष्क पर हाथ रखकर उसकी दिव्य दृष्टि खोलते हैं। 

इसके बाद ही मनुष्य अपने घट के अंदर परमात्मा के ज्योति स्वरूप का दर्शन करता है और ध्यान साधना की गहराइयों को अपने अंदर उतारता है। तभी उसे धीरे-धीरे शांति मिलने लगती है। उन्होंने कहा कि आज के जीवन में पूर्ण गुरु का मिलना भी बहुत कठिन है। परंतु जब मनुष्य सच्चे मन से उस ईश्वर को पुकारता है, तो उसकी हर एक पुकार ईश्वर तक पहुंचती है। ईश्वर ही मनुष्य की जिज्ञासा शांत करने के लिए पूर्ण गुरु से उसका वास्ता कराता है। 

उन्होंने कहा कि बिना पूर्ण गुरु के हमारा जीवन अधूरा है। गुरु द्वारा जब हम ब्रह्मज्ञान को प्राप्त कर लेते हैं, तो हमारे जीवन में बदलाव आना शुरू हो जाता है और हम दूसरों को भी सत्य का मार्ग दिखाने के लिए प्रेरित करने लगते हैं। सत्संग का समापन भजन संध्या के साथ हुआ। 

यमुनानगर | हनुमानगेट आश्रम में साप्ताहिक सत्संग में प्रवचन सुनते श्रद्धालु।