News Description
केस को लंबा खींचे, हमें केस पता होता है और वकील समझते हैं हम सुन नहीं रहे

अपनीसेवानिवृत्ति पर जिला सेशन जज कृष्ण कुमार ने गुरुवार को बड़े ही बेबाक अंदाज में में वकीलों के समक्ष अदालती कार्यों के लिहाज से अपनी राय पेश की। सेशन जज बोले कि कई बार वकील अपने केस को लंबा खींच देते हैं,जबकि वो अनावश्यक बातों को केस से हटा देें तो सिर्फ बार का समय बचेगा बल्कि भी बैंच भी समय पर फैसला सुना सकेगी। यही नहीं कृष्ण कुमार ने यह भी कहा कि बहस के दौरान वकील समझते हैं कि जज उनकी बात नहीं सुन रहे, जबकि वो खुद अदालत लगने से पहले ही संबंधित केस की स्टडी कर अपने सवाल तैयार कर चुके होते हैं। 

झज्जर बार एसोसिएशन की ओर से आयोजित विदाई एवं सम्मान समारोह में जिला एवं सत्र न्यायधीश कृष्ण कुमार के स्वागत के लिए झज्जर के अलावा गुरुग्राम, महेंद्रगढ़, नारनौल सहित कई जिला बार एसोसिएशन के मौजूदा प्रधान पूर्व प्रधान पहुंचे। अंबाला, कुरुक्षेत्र सोनीपत बार की ओर से उनके स्वस्थ जीवन की शुभकामना का संदेश भेजा गया। जिला एवं सत्र न्यायधीश ने कहा कि कोई भी जज केस के तकनीकी पहलुओं पर रोशनी डालते हुए कुछ प्रश्न भी तैयार करता है। जब बहस होती है, तब जज भी इन्हीं प्रश्नों का जवाब खोजता है। उसी के आधार पर वे अपने निर्णय की तरफ बढ़ते हैं। जबकि कई बार वकील का प्रयास होता है कि मामले को लंबा खिंचा जाए। ऐसा नहीं होना चाहिए केवल आवश्यक बिंदुओं पर ही फोकस हो। यह समय की लिहाजा से बार और बैंच दोनों के लिए अच्छा रहता है। झज्जर बार की प्रशंसा करते हुए डीजे ने झज्जर बार को वन ऑफ दी बेस्ट बार ऑफ स्टेट की संज्ञा दी और बार के सदस्यों को मार्गदर्शन के लिए हमेशा उपलब्ध रहने का भरोसा दिया। झज्जर के तत्कालीन सीजेएम एवं कैथल के जज अमित शर्मा ने कहा कि जिला एवं सत्र न्यायधीश से बहुत सीखने का मौका मिला है। उन्होंने हमेशा सभी को हिम्मत का रास्ता दिखाया। 

डीसी जजों ने भी दी पाटी 

इससेपहले डीसी सोनल गोयल एसएसपी बी सतीश बालन दूसरे न्यायिक अधिकारियों की ओर से सादगी पूर्व तरीके में जिला एवं सत्र न्यायधीश कृष्ण कुमार को सम्मान दिया गया। जिसमें अधिकारियों ने परिवार के साथ शिरकत की और केक काटकर उत्साह मनाया गया। इस मौके पर जज एचएस दहिया, सुधीर जीवन, लाल चंद, महेश कुमार, विवेक नासीर, तरणजीत कौर, कुनाल गर्ग, डा. प्रमेंद्र कौर, छवि गोयल, राजेश यादव अनिल कुमार, सुनील सहित बहादुरगढ़ अदालत से जुडे न्यायिक अधिकारी भी मौजूद रहे।