News Description
जेके अल्ट्रासाउंड का पंजीकरण 21 दिन के लिए सस्पेंड

 अंबाला : छावनी के निकलसन रोड पर स्टेट बैंक आफ इंडिया के नजदीक स्थित जेके अल्ट्रासाउंड क्लीनिक में ¨लग जांच के मामले में छापामारी में आवश्यक औपचारिकताओं में खामी मिलने पर स्वास्थ्य विभाग ने क्लीनिक का पंजीकरण 21 दिन के लिए सस्पेंड कर दिया है। फैसला भ्रूण हत्या रोकने को जिलास्तर पर गठित पीएनडीटी परामर्श समिति की बैठक में लिया गया।

सिविल सर्जन डॉ. विनोद गुप्ता ने बताया कि 21 नवंबर को जेके अल्ट्रासाउंड केंद्र पर गैर कानूनी भ्रूण जांच की सूचना मिली थी और इसी आधार पर डॉ. विपिन भंडारी व उनकी टीम ने रेड की थी। उन्होंने कहा कि सेंटर पर गैर कानूनी भ्रूण जांच की पुष्टि नहीं हुई लेकिन अल्ट्रासाउंड के लिए आवश्यक औपचारिकताओं में खामी पाई गई थी, जिसके आधार पर इसे तीन सप्ताह के लिए निलम्बित किया गया है। इस मामले में शामिल महिला राजरानी के विरुद्ध सदर पुलिस थाना मुकदमा दर्ज करके पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। इस अल्ट्रासाउंड केंद्र को 21 नवंबर को ही सील कर दिया गया था और पंजीकरण के निलंबन की अवधि भी 21 नवंबर से ही मानी जाएगी।

एक हजार लड़कों के पीछे लड़कियों की संख्या 923

इस वर्ष जनवरी से नवंबर तक एक हजार लड़कों के पीछे लड़कियों की संख्या 923 दर्ज की गई है। स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा अंबाला के अलावा पड़ोसी जिलों के साथ-साथ उत्तर प्रदेश, पंजाब इत्यादि क्षेत्रों में भी सूचना के आधार पर रेड की जाती है। ऐसे ही एक मामले में 4 नवंबर को रूड़की के एनडी अरोड़ा अस्पताल में रेड की गई थी और इस मामले में दोषी चिकित्सक, दलाल व शामिल अन्य लोगों के विरुद्ध बराड़ा पुलिस थाना में मुकदमा दर्ज किया गया है।