# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
भाजपा सरकार हर मोर्चे पर विफल : कुलदीप

भाजपा सरकार के पिछले तीन वर्ष के कार्यकाल पर अगर नजर दौड़ाई जाए तो हर मोर्चे पर यह सरकार विफल नजर आएगी। राज्य में सरकार की नीतियों के खिलाफ हुए विभिन्न आंदोलनों के लिए, कानून व्यवस्था की जर्जर हालत और मुख्यमंत्री की प्रशासन पर कमजोर पकड़ के कारण इन आंदोलनों में प्रदेश के 76 से ज्यादा लोगों ने अपनी जान गंवाई। राज्य की बिगड़ते हालातों से घबराया प्रदेश का व्यापारी वर्ग पलायन को मजबूर हुआ और पिछले तीन वर्षो में एक भी बड़ा उद्योग राज्य में नहीं लगा। क्योंकि कोई भी बाहर का उद्योगपति हरियाणा में नहीं आना चाहता। यह बात वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं विधायक कुलदीप बिश्नोई ने हिसार, आदमपुर, नलवा, आदमपुर हलके सहित हिसार लोकसभा क्षेत्र में विभिन्न शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में कई कार्यक्रमों में भाग लेने के दौरान कहीं। कुलदीप ने कहा कि भाजपा की जनविरोधी नीतियों की सबसे ज्यादा मार राज्य के किसान वर्ग पर पड़ी है। स्वामीनाथन आयोग लागू करने का वादा करने वाली भाजपा ने सत्ता में आते ही स्वामीनाथन आयोग की सिफरिशों को झुठलाते हुए फसल बीमा योजना जैसी किसान विरोधी योजना लागू की। इससे किसानों में रोष बढ़ा। टेलों तक नहरी ¨सचाई पानी पहुंचाने के लिए ठोस योजनाएं बनाना तो दूर भाजपा नहरें पाटने पर उतारू हो गई। एसवाईएल का पानी लाने के बड़े-बड़े दावे करने वाली भाजपा ने तीन वर्षो में एक बार भी इस दिशा में गंभीरता नहीं दिखाई। इस अवसर पर रणधीर पनिहार, जयवीर गिल, मान¨सह चेयरमैन, राजाराम खिचड़, विनोद ऐलावादी, र¨वद्र मक्कड़, रविन्द्र बहार, कैलाश मंडावरिया, सुभाष बेरवाल, महेन्द्र घोड़ेला, पिरथी चैनत, टोनी भाटिया, सचिन गिरधर, राजू बत्रा, रामनिवास कौशिक, नरेंद्र सैनी, सुनील सैनी, विरेन्द्र मोरपुरा, विजय बिश्नोई, देसराज सरपंच ,नरेश जांगड़ा आदि मौजूद थे।