News Description
गीता को सुनने-जानने शहर के दो फीसदी लोग भी नहीं पहुंचे

छोटीकाशी कहे जाने वाले भिवानी के लोग कितने धार्मिक है इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दो दिन से शुरू हुई जिला स्तरीय गीता जयंती महोत्सव में गीता को जानने तथा सुनने के लिए शहर के दो प्रतिशत लोग भी नहीं पहुंचे हैं। समारोह में खाली कुर्सियां शहरवासियों की राह देख रही हैं। 

समारोह में आने पर एक तरफ जहां लोगों को गीता के बारे में जानने तथा श्लोकों से सुनने का अवसर मिलता तो वहीं सांस्कृतिक कार्यक्रम से माध्यम से गीता के अध्यायों को प्रस्तुत कर रहे स्कूली बच्चों का हौसला भी बढ़ता। पंडाल में या तो प्रशासनिक अधिकारी कर्मचारी दिखाई देते हैं या फिर स्कूली बच्चे। इन सबके साथ साथ अगर शहर और जिले से लोग समारोह में आते तो उन्हें विभिन्न विभागों द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के बारे में जानने का मौका मिलता जिससे उन्हें खासा लाभ होता। प्रशासन समारोह को लेकर पिछले एक माह से तैयारियों में जुटा हुआ था। पहले दिन पंडाल खुला होने के कारण दोपहर के समय धूप से पंडाल में बैठे विद्यार्थियों अधिकारियों को खासी परेशानी हुई थी। इस बात को ध्यान में रखते हुए मंगलवार शाम को ही पंडाल को कवर कर दिया गया लिहाजा बुधवार को धूप से पंडाल में बैठने वालों को परेशानी नहीं हुई। 

गीता जयंती महोत्सव के दौरान किरोड़ीमल पार्क में लगाई गई विभिन्न प्रदर्शनियों में स्टॉल खाली ही दिखाई दिए। स्कूलों से लाए गए बच्चे तो जरूर प्रदर्शनी में घूम रहे थे लेकिन शहरवासी इस प्रदर्शनी में देखने को नहीं मिले। सरकारी विभागों की ओर से यहां पर सरकारी योजनाओं की जानकारी दी जा रही है। नए प्रयोग के तौर पर इस प्रदर्शनी में भी कुछ नजर नहीं आया, जबकि महोत्सव के लिए लगभग एक सप्ताह से प्रशासन की ओर से तैयारियां की जा रही थी। 

शिक्षा मंत्री ने मंच पर दीपोत्सव के बाद पंडाल में लगाई गई प्रदर्शनियों की ओर रूख किया लेकिन वे केवल प्रारंभिक सात स्कूलों के द्वारा प्रदर्शित प्रदर्शनी को देखकर वापस लौट गए। इससे अन्य स्टॉलों पर मौजूद बच्चे अन्य विभागों के कर्मचारी अपनी स्टालों के बारे में शिक्षा मंत्री को अवगत कराने से वंचित रह गए। वहीं राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय की प्राचार्य ने मुख्य अतिथि को कन्या विद्यालय के भवन का मॉडल और अन्य सह पाठ्य गतिविधियों के बारे में जानकारी दी। 

स्टॉलों के बारे में बताने से वंचित रहे विद्यार्थी 

डीसी ने शिक्षा मंत्री को भेंट की गीता 

दियाराजकीय कन्या स्कूल के जीर्णोद्धार के लिए एक करोड़ रुपये शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने कहा कि सरकार शिक्षा के स्तर को सुधारने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। उन्होंने शहर के राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के भवन के जीर्णोद्धार के लिए एक करोड़ रुपये की राशि मंजूर की। डीसी डॉ. अंशज सिंह द्वारा शिक्षा मंत्री को गीता की प्रति भेंट की। 

गीता मनीषियों ने गीता से संबंधित विषयों पर विचार किए सांझा 

किरोड़ीमलपार्क में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय गीता महोत्सव के दूसरे दिन सेमिनार का आयोजन किया गया, इसमें सेवानिवृत आईएएस डॉ. आरबी लांग्यान मुख्य वक्ता अन्य गीता मनीषियों ने भी गीता से संबंधित विभिन्न विषयों पर अपने विचार सांझा किए। सेमिनार के दौरान विभिन्न स्कूली बच्चों ने प्रस्तुति दी। बुधवार को भिवानी पब्लिक स्कूल, हलवासिया विद्या विहार, किरोड़ीमल पब्लिक स्कूल, डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्ण स्कूल और टीआईटी वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी। इनके अलावा उत्तमी बाई कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय से स्नेहा और काजल ने भगवान श्री कृष्ण और अर्जुन के संवाद की प्रस्तुति दी। महोत्सव में राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय हालुवास की छात्रा प्रीति ने गीता श्लोकोच्चारण किया।