News Description
बवानीखेड़ा में पाइप लाइन बिछाए बिना ही थमाए पानी के बिल, गुस्साए ग्रामीण

जनस्वास्थ्य विभाग के भी क्या कहने! डालनी थी पानी की लाइन, भेज दिए पानी के बिल। हम बात कर रहे हैं बवानी खेड़ा के वार्ड चार की। वार्ड चार के कुछ भाग में पेयजल लाइन नहीं है। इससे वार्ड वासियों को पानी की किल्लत का सामना करना पड़ रहा है। लोग पानी की किल्लत के चलते कई बार धरना प्रदर्शन कर चुके हैं। इसी बीच दो दिन पहले जनस्वास्थ्य विभाग की तरफ से ग्रामीणों को पानी के बिल थमा दिए। ग्रामीण बिलों को देखकर हैरान हो गए। 

इस पर आक्रोषित ग्रामीणों ने बुधवार को तहसीलदार कार्यालय के सामने एकत्रित हो कर जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के खिलाफ नारेबाजी की तथा डीसी डॉ. अंशज सिंह के नाम तहसीलदार को ज्ञापन सौंपकर जनस्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करवाने की मांग की। ज्ञापन सौंपने वालों में अधिवक्ता राजेश सिंधु, बिल्लू, मदन, वजीर, रामपति, चन्द्रभान मुंढ़ाडा, सुनीता, शीला, सत्यवान, वीरभान, सुदेश, शिवा, पुरुषोत्तम, रामनिवास जितेंद्र समेत अनेक नागरिक थे।

तहसीलदारको सौंपे गए ज्ञापन में बताया गया है कि वार्ड चार में पेयजल लाइन नहीं है। इसके चलते वार्ड वासियों को विशेषकर महिलाओं को पानी के लिए इधर-उधर भटकना पड़ रहा है। दूर-दराज क्षेत्रों से पानी लाना पड़ रहा है। पेयजल लाइन के लिए वे अनेक जन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से भी मिल चुके हैं। उन्हें अपनी समस्या से अवगत करवा चुके हैं, लेकिन आज तक उनकी समस्या का हल नहीं निकला है। इस पर विभाग ने उनके नाम पर पानी के बिल भेज दिए। ज्ञापन में डीसी से उक्त मामले में हस्तक्षेप करके जन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने वार्ड में पेयजल लाइन डलवाने की गुहार लगाई।