News Description
डाकघर भवन की जर्जर हालत से कभी भी हो सकता है हादसा

बड़ागुढ़ा : गांव बड़ागुढ़ा स्थित डाकघर भवन की काफी जर्जर हालत हो चुकी है। भवन की छत व दीवारों में जगह जगह दरार आ चुकी है। जिससे कभी भी भवन गिरने से कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है। मगर डाक विभाग के अधिकारियों ने डाकघर को बदलने के लिए अभी तक कोई प्रयास नहीं किया है। गौरतलब है कि करीब 1962 से इस किराये के भवन में डाक घर चल रहा है। जिसमें बड़ागुढा, वीरुवाला, झिड़ी, अलीकां, बप्पां, किराडकोट, बुढ़ाभाना, मल्लेवाला, नागोकी, लहंगेवाला, दौलतपुर खेड़ा, सुबाखेड़ा,झोरड़रोही, थिराज, भंगू, भीवां गांव इस डाकघर में पहुंचती है। इसके बाद यहां से संबंधित गांवों में डाक भेजी जाती है।

डाक विभाग के पास डाकघर के लिए अपना भवन नहीं है। जिसको लेकर गांव में दो कमरो में किराये के भवन में डाकघर चल रहा है। इस भवन की छत व दीवारों में जगह जगह दरारे आई हुई है। जिससे जब भी बारिश होती है। भवन की छत टपकती रहती है। इस भवन में कर्मचारी कार्य करते हैं। डाकघर की जर्जर हालत के बारे में उच्च अधिकारियों को अवगत करवाया गया। जिसको लेकर अधिकारियों ने भवन बदलने के लिए निर्देश जारी किए। जिसके लिए बस स्टैंड के समीप कई लोगों से पता किया। लेकिन अभी तक हमें कहीं ढंग की इमारत नहीं मिलने के कारण मजबूरन इसी जगह काम चलाना पड़ रहा है