News Description
सांस्कृतिक संध्या में सोनाली ने बिखेरा कत्थक नृत्य का जादू

 

 

संघर्ष की मिसाल बनी कत्थक नृत्यांगना सोनाली शर्मा ने अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव की सांस्कृतिक संध्या को अपने कत्थक नृत्य की जादूई प्रस्तुति से महका दिया। करीब 24 महिला-पुरुष कलाकारों के साथ दी कत्थक प्रस्तुति में रासलीला के साथ महाभारतकालीन प्रसंगों को सशक्त रूप में दर्शाया। अंतरराष्ट्रीय कत्थक नृत्यांगना सोनाली शर्मा अब हरियाणा में कत्थक को एक विशेष पहचान दिलाने के लिए आतुर हैं।

आर्ट एंड रिदम फाउंडेशन के बैनर तले सोनाली शर्मा ने बीती रात्रि सदाचार स्थल में आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रमों की संध्या में कथक की मनमोहक प्रस्तुति दी। दो बच्चों बेटी आयुषी व बेटा प्रत्युष की मां सोनाली का कत्थक नृत्य का सफर अत्यधिक चुनौती भरा रहा है। उन्होंने कठोर संघर्ष के साथ सभी चुनौतियों को पार करते हुए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त की है। मात्र नौ वर्ष की आयु से ही वे कथक सीखने लगीं। रेवाड़ी में जन्मी इस प्रतिभाशाली नृत्यांगना का विवाह सोनीपत के गांव भुर्री निवासी अनिल शर्मा के साथ हुआ। सोनाली के अनुसार हरियाणवी समाज में शुरुआती सफर बेहद कठिन रहा, ¨कतु माता-पिता के विशेष प्रोत्साहन ने उन्हें सदैव आगे ही बढ़ाया। विवाह के पश्चात उन्होंने परिवार के लिए कत्थक को विदाई दे दी, लेकिन कुछ समय उपरांत उनके पति ने उन्हें हौसला देते हुए कत्थक कला को आगे बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित किया। पुन: कत्थक नृत्य की ओर कदम बढ़ाया। गुरु गीतांजलि लाल व जयपुर घराना के गुरु पंडित राजेंद्र गंगानी के सान्निध्य में वे आगे बढ़ने लगी। इस बीच सितंबर-2014 में उनके पति अनिल शर्मा बीएसएफ में कार्यरत कश्मीर में शहीद हो गए। फिर से सोनाली का संघर्ष प्रारंभ हो गया, लेकिन पति की इच्छा व माता सुदेश के साथ ने उन्हें पीछे नहीं हटने दिया। सोनाली की माता सुदेश शर्मा बताती है कि सोनाली के नाम एक अनूठा रिकॉर्ड भी है, सोनाली हरियाणा की वह बेटी है जो प्रदेश की पहली कत्थक नृत्यांगना का सम्मान हासिल कर चुकी हैं। सोनाली शर्मा ने कत्थक को जीवन समर्पित कर दिया है। उनकी आत्मा में कत्थक बसता है। ¨कतु वे सामाजिक क्षेत्र में योगदान से भी दूर नहीं है। वे विश्व स्तरीय विभिन्न सामाजिक एवं शैक्षणिक प्रेजेक्टों से जुड़ी हुई हैं। एंक¨रग के क्षेत्र में भी उनकी प्रतिभा देखते ही बनती है। रेलवे के विभिन्न कार्यक्रमों का कुशलतापूर्वक मंच संचालन कर चुकी सोनाली ने दूरदर्शन पर प्रसारित फिल्म अल्लाह तेरो नाम में भी काम किया है। साथ ही वे डॉक्यूमेंट्री मूवी परशुराम, शिव स्तुति तथा दस्तक इत्यादि में अपने अभिनय का जलवा बिखेर चुकी हैं।