News Description
नगर निगम देता रहा सफाई, मंत्रीजी बोले, अब अधिकारियों पर होगी कार्रवाई

जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी एवं नवीकरणीय ऊर्जा राज्यमंत्री डा. बनवारी लाल ने सोमवार को जिला सभागार में आयोजित जिला लोक संपर्क एवं जन परिवाद समिति की बैठक में 24 शिकायतों की सुनवाई करते हुए 11 समस्याओं का मौके पर ही समाधान किया। इस अवसर पर उपायुक्त निखिल गजराज, पुलिस अधीक्षक मनीषा चौधरी, अतिरिक्त उपायुक्त एएस मान, चेयरमैन श्रीनिवास गोयल, कर्ण¨सह रानौलिया, सीमा गैबीपुर, भाजपा जिला महामंत्री आशा रानी खेदड़ सहित अन्य विभागों के अधिकारी व समिति सदस्य उपस्थित रहे। इस दौरान गांव सातरोड में गंदे पानी की निकासी का मामला चौथी बार फिर से पेंडिग छोड़ दिया गया। इससे पहले लगातार तीन बार जन परिवाद समिति की बैठकों में यह मामला उठाया जा चुका है। हालांकि इस बार नगर निगम आयुक्त अशोक बंसल और एक्सईएन विवेक गिल के खिलाफ गंदे पानी की समस्या खत्म नहीं करने पर कार्रवाई की चेतावनी दी गई। इसकी मांग गांव सातरोड के लोगों ने उठाई थी। बच्चों के शमशान में पानी भरने की बात पर निगम आयुक्त ने कहा कि गांव के पुराने दस्तावेजों की जांच की गई है। वह जमीन जोहड़ की है, जहां पर शमशान है। हमने नाले का निर्माण करवा दिया है। लोगों ने कहा कि अभी तक निर्माण पूरा नहीं हुआ है। इस पर एक्सईएन विवेक गिल ने कहा कि मरम्मत का थोड़ा बहुत काम रहा है। जो कि एक सप्ताह में पूरा कर दिया जाएगा।

इस मामले में उपायुक्त निखिल गजराज ने कहा कि आपकी समस्या हल की जाएगी। यह छोटी समस्या नहीं है। बड़ी समस्या है और इसलिए लगातार इसे बैठक में रखा जा रहा है। अमृत योजना में इस प्रोजेक्ट को लिया गया है। इसमें 30 करोड़ रुपये खर्च होंगे। गांव की इस समस्या को जड़ से खत्म किया जाएगा। आपको अधिकारियों पर विश्वास रखना होगा। इस लोगों ने कहा कि हमें अधिकारियों पर विश्वास नहीं है। इस पर उपायुक्त ने कहा कि आपके साथ कमेटी के सदस्य को जोड़ दिया जाता है। उन पर आपको विश्वास होगा। इस पर निगम आयुक्त ने कहा कि डा. सुल्तान ¨सह पहले ही उनके साथ है और उनको मौका दिखाया गया था। इस पर ग्रामीणों ने कहा कि उन्हें अधिकारियों पर विश्वास नहीं है। उन्हें सरकार पर विश्वास है और इतने लंबे समय से काम अटकाने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई होनी चाहिए। राज्य मंत्री बनवारी लाल ने कहा कि यदि आगामी बैठक तक इस समस्या को हल नहीं किया जाता है तो निगम अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इस अवसर पर नगर निगम आयुक्त अशोक बंसल ,एसडीएम परमजीत ¨सह चहल, हांसी एसडीएम राजीव अहलावत, बरवाला एसडीएम पृथ्वी ¨सह, सीटीएम शालिनी चेतल, प्रो. मंदीप मलिक, रवि सैनी, डॉ. योगेश बिदानी, सत्यपाल श्योराण, राजेंद्र लांबा, केएल रिणवा, डा. सुल्तान ¨सह, सुरेश गोयल धूपवाला, अशोक कनोजिया, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी विकास यादव, नगर निगम के सहायक आयुक्त जयवीर यादव, कपूर बैनीवाल, विभिन्न विभागों के अधिकारी व जन परिवाद समिति के सदस्य उपस्थित थे।

..........

ग्राम पंचायत कुलाना मामले में बनी चार सदस्यीय कमेटी

ग्राम पंचायत कुलाना में टेल तक पानी नहीं पहुंचने का मामला फिर गर्माया। जहां पुलिस ने 513 शिकायतें मिलने पर 53 मामले दर्ज करने की बात कही। वहीं लोगों ने टेल तक पानी पहुंचाने की मांग उठाई। ¨सचाई विभाग के एसई ने पक्ष रखते हुए कहा कि एसडीएम साहब को साथ लेकर मौके का निरीक्षण किया गया था। उस दौरान टेल पर पानी था। इसके अलावा एसडीएम साहब ने अपने स्तर पर मौके का निरीक्षण किया था। तब भी पानी था। इस पर लोगों ने आरोप लगाया कि अधिकारियों के समय ही पानी मिलता है। जहां यह लोग चोरी पकड़वाने में सहयोग की बात करते है। ¨सचाई विभाग के कुंडू साहब की वहां पर पिटाई हो चुकी है। एसई ने कहा कि चोरी रोकने का एक समाधान है कि बीड फार्म की जमीन जिसे भी लीज पर दी जाए। उससे शपथ पत्र भरवाया जाए कि पानी चोरी होने पर उसकी लीज कैंसिल कर दी जाएगी। तभी पानी चोरी की समस्या काफी हद तक ठीक हो सकती है। गांव के सरपंच ने कहा कि बीड की लीज कैंसिल करना गलत है। इससे सरकार को नुकसान होगा। राज्यमंत्री बनवारी लाल ने कहा कि इस मामले में ग्राम सरपंच , एसडीएम, कमेटी के सदस्य मंदीप मलिक व मान¨सह मौके का निरीक्षण करेंगे। उसके बाद आगामी निर्णय लिया जाएगा।