News Description
संविधान दिवस पर संविधान की पालना करने की दिलाई शपथ

सिरसा : गांव शेखुपुरिया स्थित राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल में रविवार को संविधान दिवस पर कार्यक्रम आयोजित किया। जिसमें स्कूल के छात्रों को संविधान की पालना करने की शपथ दिलाई गई। कार्यक्रम में संबोधित करते हुए अंग्रेजी विषय के प्रवक्ता नरेश ग्रोवर ने कहा कि हमें संविधान की पालना करनी चाहिए।

संविधान के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि भारत में 26 नवंबर को हर साल संविधान दिवस मनाया जाता है, क्योंकि वर्ष 1949 में 26 नवम्बर को संविधान सभा द्वारा भारत के संविधान को स्वीकृत किया गया था जो 26 जनवरी 1950 को प्रभाव में आया। डॉ. भीमराव अम्बेडकर को भारत के संविधान का जनक कहा जाता है। भारत की आजादी के बाद काग्रेस सरकार ने डॉ. भीमराव अम्बेडकर को भारत के प्रथम कानून मंत्री के रुप में सेवा करने का निमंत्रण दिया। उन्हें 29 अगस्त को संविधान की प्रारुप समिति का अध्यक्ष बनाया गया।

डीएसपी ऐलनाबाद साधूराम ने कहा कि किसी भी देश का संविधान उसकी राजनीतिक व सामाजिक व्यवस्था का वह बुनियादी सांचा-ढांचा निर्धारित करता है, जिसके अंतर्गत उसकी जनता शासित होती है। यह राज्य की विधायिका, कार्यपालिका और न्यायपालिका जैसे प्रमुख अंगों की स्थापना करता है और उसकी शक्ति की व्याख्या करता है तथा उनके दायित्वों का सीमांकन करता है। डीएसपी साधुराम पुलिस लाइन सिरसा में भारतीय संविधान के निर्माण दिवस के उपलक्ष्य में पुलिस जवानों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वस्तुत: संविधान उनके संस्थापकों एवं निर्माताओं के आदर्शों तथा सपनों के मूल्यों का दर्पण होता है। संविधान जनता की विशिष्ट सामाजिक, राजनीतिक व आíथक प्रगति आस्था एवं आकांक्षा पर आधारित होता है। 26 नवंबर 1949 को भारतीय संविधान सभा की ओर से भारत का संविधान पारित किया गया, जिन्हें भारतीय संविधान का आधार कहा जाता है