News Description
शेरांवाली नहर टूटने से 100 एकड़ में गेहूं बिजाई पर फिरा पानी

 नाथूसरी चौपटा : गांव दड़बा कलां के समीप शेरांवाली माइनर में रविवार सुबह अचानक दरार आ गई। जिससे किसानों द्वारा 100 एकड़ भूमि पर जलभराव होने से गेहूं अंकुरित फसल खराब हो गई। नहर टूटने की सूचना पाकर ¨सचाई विभाग के कनिष्ठ अभियंता व बेलदार मौके पर पहुंचे।

इसके बाद नहर को नहराना हैड से बंद करवाया गया। इसके बाद नहर में आई दरार को जेसीबी व ट्रैक्टरों की सहायता से ठीक करने कार्य शुरू कर दिया। सबसे बड़ी बात तो यह है कि गेहूं की बिजाई के लिए नवंबर माह सही समय माना जाता है। ज्यादातर किसान पहले ही लेट हो चुके हैं। अब पानी भर जाने से और भी परेशानी बढ़ती नजर आ रही हैं। क्योंकि अब मौसम में पहले ही नमी है, रात को ओस भी पड़ती है, इसके कारण अब धरती को बिजाई के लिए तैयार करने में बहुत ज्यादा समय लगेगा। इसलिए किसानों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।

शेरांवाली नहर में सुबह 6 बजे बुर्जी नंबर 24800 के समीप अचानक दरार आ गई। जिससे किसान छबीलदास के खेत में जलभराव होने लगा। खेतों में ¨सचाई कर रहे किसानों ने नहर टूटने की सूचना तुंरत ¨सचाई विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों को दी। नहर में करीब 75 फुट तक लेफ्ट साइड में कटाव हो गया। ¨सचाई विभाग के कनिष्ठ अभियंता रमेश कुमार व बेलदार मौके पर पहुंचे। उन्होंने नहर को नहराना हैड से बंद करवाया।