News Description
यूनियन के विरोध के बाद वापस लिया पत्र, जस के तस रहेंगे 8200 कर्मचारी

 रोहतक :परिवहन विभाग के 82 सौ कर्मियों से भत्ते वापस लेने की बात सामने आने पर यूनियन ने विरोध शुरु कर दिया था। विभिन्न डिपो पर प्रदर्शन भी किया गया था। यूनियन के अधिकारियों ने बताया कि विरोध के बाद अधिकारियों ने 82 सौ कर्मियों को जस का तस ही भत्ता मिलने की बात कही है।

हरियाणा रोडवेज संयुक्त कर्मचारी संघ के मुख्य संगठन सचिव कृष्ण सुहाग ने बताया कि परिवहन विभाग की ओर से पत्र जारी किया गया था कि लंबे समय की लड़ाई के बाद पक्का किए गए 82 सौ कर्मियों को एक ही झटके में ही कच्चा कर दिया गया। उन्होंने बताया कि इस बात को लेकर सरकार के प्रति यूनियन ने विरोध जताया। फिर सभी डिपो पर कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ मोर्चा निकाला। उन्होंने बताया कि विरोध के बाद प्रशासन की ओर से पत्र को वापस ले लिया गया है और अब सभी पक्का किए गए 82 सौ कर्मचारी जस के तस ही व्यवस्था में बने रहेंगे।

 वर्ष 2003 से 2014 तक भर्ती हुए करीब 82 सौ कर्मचारियों को पक्का करने के लिए रोडवेज की यूनियनों ने हड़ताल की थी और सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था। आंदोलन के बाद सभी 82 सौ कर्मियों को पक्का कर दिया गया था। इसमें बताया जा रहा है कि महाप्रबंधक को विभाग के उच्चाधिकारियों की ओर से आदेश जारी किया गया था कि पक्का किए गए इन कर्मियों को पक्का नहीं माना जाएगा और सिर्फ नियमित वेतनमान दिया जाएगा।

लेकिन बताया जा रहा है कि इसके बाद ही यूनियन ने विरोध करना शुरु कर दिया। जिसमें हरियाणा रोडवेज संयुक्त कर्मचारी संघ के मुख्य संगठन सचिव कृष्ण सुहाग ने बताया कि अब सभी कर्मचारी पक्के ही बने रहेंगे और उन्हें ज्यों का त्यों ही लाभ मिलेगा