News Description
अवकाश के दिन भी खुले रहे निजी स्कूल

होडल: उपमंडल के निजी स्कूल संचालकों के लिए सरकार के आदेश कोई मायने नहीं रखते हैं। सरकार के आदेश के बावजूद भी निजी स्कूल संचालक अवकाश के दिन भी छात्रों को विद्यालय आने के लिए बाध्य करते हैं। शुक्रवार को गुरु तेग बहादुर जयंती के अवसर पर उपमंडल के सभी सरकारी विद्यालयों में अवकाश रहा लेकिन, अधिकांश निजी स्कूलों में छात्र पढ़ते नजर आए।

जब यह मामला शिक्षा विभाग के संज्ञान में आया तो निजी स्कूल संचालकों ने आनन-फानन में बच्चों की छुट्टी कर उन्हें घरों के लिए रवाना कर दिया। बाद में स्कूली छात्रों में यह चर्चा बनी रही कि आखिर अचानक ही स्कूलों की छुट्टी क्यों की गई है, जबकि सरकारी स्कूल सुबह से ही बंद हैं। इससे पहले भी उप मंडल के निजी स्कूल संचालकों द्वारा इस प्रकार के अवकाशों के दिन भी स्कूल लगाए जाते रहे हैं, लेकिन शिक्षा विभाग इस मामले में जानकार भी अनजान बना रहता है।

कई निजी स्कूलों में तो अवकाश घोषित किया हुआ था, लेकिन अधिकांश निजी स्कूलों में छात्र पढ़ते दिखाई दिए, जबकि सरकार के आदेशानुसार सरकारी अवकाश के दिनों में सरकारी स्कूलों के साथ-साथ निजी स्कूलों में भी अवकाश रहेगा, लेकिन विभाग के इन आदेशों का निजी स्कूल संचालकों पर कोई असर दिखाई नहीं दे रहा है। सरकारी अवकाश के दिनों में भी निजी स्कूल धड़ल्ले से चलाए जाते हैं।

सरकार के आदेशानुसार अब सरकारी विद्यालयों में अवकाश के दिन निजी स्कूलों में भी अवकाश रहेगा। अगर कोई निजी स्कूल संचालक इन आदेशों का उल्लंघन करता पाया जाएगा तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी