News Description
महिला एक साल के बच्चे की रोहतक-दिल्ली ईएमयू ट्रेन की चपेट में आने से मौत

जिसघर में शादी की खुशी में मंगल गीत गाएं जा रहे थे, कुछ ही समय बाद बारात निकलनी थी। इसी बीच शादी में शरीक होने आई दूल्हे की बुआ और बहन के डेढ़ साल के बच्चे की मौत की खबर ने खुशी के माहौल को मातम में बदल दिया। मंगल गीत की जगह घर में कोहराम मच गया। घटना बराही फाटक पर उस समय हुई जब 50 वर्षीय मुनिया अपनी भतीजी के डेढ़ साल के बेटे रवि को घुमाने के लिए मंदिर की तरफ जा रही थी। रेलवे लाइन क्रॉस करते हुए रोहतक-दिल्ली ईएमयू ट्रेन ने उसे अपनी चपेट में ले लिया। सूचना मिलने पर जीआरपी थाना पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों शवों को अपने में लेकर ट्रामा सेंटर में पोस्टमार्टम करवाया। 

भतीजे की शादी में 

आई थी महिला 

बराहीफाटक के नजदीक स्थित विकास नगर काॅलोनी निवासी बबलू की वीरवार को शादी थी। विवाह समारोह में शरीक होने के लिए तमाम रिश्तेदार आए हुए थे। कुछ दिन पहले नालंदा बिहार से उसकी बुआ मुनिया भी आई थी। सुबह करीब सवा आठ बजे वह अपनी भतीजी के बेटे रवि को लेकर फाटक के दूसरी तरफ मंदिर के पास गई थी। कुछ देर उसे खिलाने के बाद वह वापस घर जाने के लिए रेलवे लाइन क्रास कर रही थी। एक तरफ से ट्रेन रही थी, जिस पर वह वह दूसरी साइड चली गई। अचानक इस ट्रैक पर रोहतक-दिल्ली ईएमयू गई और दोनों को अपनी चपेट में ले लिया। इससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई। 

बहादुरगढ़. ट्रेनहादसे में मौत के बाद विकास नगर में विलाप करते परिजन। 

लोको पायलेट ने एक्सीडेंट की 

दी थी सूचना 

^सुबहलोको पायलेट ने एक्सीडेंट की सूचना दी थी। मौके पर पहुंचे तो वहां एक महिला और बच्चे की डेडबॉडी थी। शव पोस्टमार्टम के बाद परिजनों को सौंप दिया है। कपूरसिंह, जांच अधिकारी, जीआरपी 

मौके पर पहुंचे परिजन 

हादसेकी जानकारी मिलते ही जीआरपी थाना से जांच अधिकारी कपूर सिंह मौके पर पहुंचे। तब तक बारात की तैयारियों में जुटे परिवार के लोग भी रेलवे ट्रैक पर दौड़ पड़े। देखते ही देखते मौके पर काफी लोगों की भीड़ हो गई। शवों को देखते ही बारात की तैयारियों में जुटे परिवार में मातम फैल गया। लोगों का रो-रोकर बुरा हाल हो गया।