# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
सशक्त, संस्कारित व स्वावलंबी नारी से भारत बनेगा महान

रेवाड़ी: दुर्गावाहिनी की राष्ट्रीय संयोजक माला रावल ने कहा कि देश को महान बनाने के लिए सभी को अपना योगदान देना होगा। नारी शक्ति की शक्ति का योगदान जब तक नहीं होगा, तब तक एक मजबूत राष्ट्र की परिकल्पना नहीं की जा सकती। सशक्त, संस्कारित व स्वावलंबी नारी ही भारत को महान बना सकती है।

रावल बृहस्पतिवार को यहां के आरपीएस पब्लिक स्कूल में रानी लक्ष्मीबाई के जयंती सप्ताह के समापन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि भाग लेने के बाद दैनिक जागरण से बातचीत कर रही थी। दुर्गावाहिनी तमिलनाडू को छोड़कर देश के हर राज्य में संगठन खड़ा कर चुकी है। निकट भविष्य में हम न केवल संगठन विस्तार करेंगे, बल्कि सेवा प्रकल्पों को भी अधिक मजबूती के साथ लागू करेंगे।

माला ने झांसी की रानी के व्यक्तित्व व कृतित्व पर विस्तार से प्रकाश डाला। अंतिम क्षणों में रानी ने यह कह दिया था मेरा शरीर नहीं मिलना चाहिए। रानी की अंतिम इच्छा को ध्यान में रखते हुए अंतिम समय में रानी के साथ के अंगरक्षकों ने आनन-फानन में कुछ लकड़ियाँ जमा की और उनका अंतिम संस्कार किया।

स्कूल प्रबंधन ने दृश्य-श्रव्य तकनीक के माध्यम से भी झांसी की रानी की वीरता की जानकारी दी। इस अवसर पर दुर्गावाहिनी की क्षेत्रीय संयोजक अभिलाषा, कार्यक्रम की आयोजक व दुर्गावाहिनी की प्रदेश संयोजक डॉ. इंदुराव, विशिष्ट अतिथि व अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की राष्ट्रीय छात्रा प्रमुख ममता यादव सहित कई वक्ताओं ने विचार व्यक्त किए।