News Description
सिविल अस्पताल की 15 से ज्यादा पानी की टंकियां लीक

इसेप्रशासन की लापरवाही मानें या फिर गड़बड़झाला। करीब 21 करोड़ रुपए की लागत से तैयार जिस अस्पताल के नए भवन का करीब एक माह पहले सीएम मनोहरलाल ने उद्‌घाटन किया था अभी से उसी भवन की छत पर रखी 15 से ज्यादा पानी की टंकियां लीकेज हो गई हैं। अस्पताल प्रशासन ने ठेकेदार पर घटिया सामग्री इस्तेमाल करने के आरोप लगाते हुए इन्हें त्वरित बदलने की मांग की है। सिविल सर्जन डाॅ. संजय दहिया ने मामले में डीसी को शिकायत भेजकर उचित कार्रवाई की मांग की है। 

जिला मुख्यालय स्थित सिविल अस्पताल का अपग्रेडेशन भवन का निर्माण लोक निर्माण विभाग द्वारा कराया गया है। विभाग ने ठेकेदार के जरिए निर्माण कार्य पूरा कराकर स्वास्थ्य विभाग को हैंडओवर किया था। इसके बाद अक्टूबर में सीएम मनोहरलाल ने नए भवन का उद्‌घाटन किया था। इसके बाद पुराने अस्पताल के मरीजों, ओपीडी को नए भवन में शिफ्ट कराया गया। नए अपग्रेडेशन भवन में मरीजों स्टाफ को पेयजल की सुविधा देने के लिए करीब 30 से अधिक टंकियां ऊपरी मंजिल पर रखी गई हैं। विभाग कर्मचारियों के मुताबिक इनमें से आधे से ज्यादा संख्या की टंकियां लीकेज जर्जर हैं। इसके कारण छतों पर लीकेज पानी से भवन को भी नुकसान पहुंच रहा है। आरोप लगाया कि ठेकेदार ने पुरानी टंकियां रखी है या फिर घटिया क्वालिटी की। 

डीसी को भेजी शिकायत 

^सिविलअस्पताल के नए विस्तारीकरण भवन में पेयजल के लिए छतों पर रखी पानी की टंकियों में से आधे से ज्यादा लीकेज होने की जानकारी मिली है। एक माह पहले ही अस्पताल नए भवन में शिफ्ट हुआ था। ऐसे में अभी से यह समस्या मिलने से साफ है कि ठेकेदार की लापरवाही रही है। इसको लेकर वे डीसी को शिकायत भेजकर अवगत करा रहे हैं।'