News Description
विभिन्न मामलों में पकड़े गए दोपहिया और चौपहिया वाहनों का लगा भंडार, फांक रहे धूल

विभिन्न मामलों में पकड़े गए और सड़क दुर्घटनाओं में क्षतिग्रस्त हुए वाहन पुलिस थानों व पुलिस लाइन में खड़े धूल फांक रहे रहे हैं। झज्जर पुलिस थाने के अंतर्गत 81 ऐसे वाहन भी हैं। जिन्हें पिछले वर्ष आरक्षण आंदोलन के दौरान उपद्रवियों ने आग के हवाले कर दिया था। इनकी नीलामी प्रक्रिया पुलिस प्रशासन की तरफ से शुरू की जा चुकी है। जिला के पुलिस थानों व पुलिस लाइन में करीब 500 वाहन खड़े हैं जो पुलिस ने कब्जे में लिए हुए हैं। पुलिस प्रशासन की तरफ से लावारिस हालत में मिले वाहनों, सड़क दुर्घटनाओं में क्षतिग्रस्त हुए वाहनों व अन्य मामलों में पकड़े गए ऐसे वाहनों को नीलाम किया जाता है जिनके मालिक उन्हे लेने के लिए नहीं आते हैं। पुलिस थानों में खड़े कुछ वाहन ऐसे भी हैं जो विभिन्न मामलों से जुड़े हैं और ये अदालतों में विचाराधीन हैं। जिला में सात पुलिस थाने हैं। इनमें झज्जर, बेरी, साल्हावास, सदर बहादुरगढ़, लाइनपार बहादुरगढ़, शहर बहादुरगढ़ व महिला पुलिस थाना झज्जर शामिल हैं।

----

अप्रैल में की गई थी नीलामी : पुलिस प्रशासन की तरफ से अप्रैल में 115 वाहनों की नीलामी की जानी थी। लेकिन इस दौरान 109 वाहन ही नीलाम हो पाए थे। जबकि इस बार पुलिस प्रशासन की तरफ से 187 वाहनों की नीलामी प्रक्रिया शुरू की गई हैं। जल्द ही यह प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी।