# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
टोहाना से 100 बंदर पकड़ जंगलों में भेजेगी नगर परिषद

शहर में बंदरों ने आतंक मचाया हुआ है। बार-बार प्रशासन से गुहार लगा चुके हैं लेकिन किसी ने नहीं सुनी। एडवोकेट राज वर्मा ने भी एसडीएम नगर परिषद प्रबंधन को पत्र भेजकर बंदरों को काबू किए जाने की मांग की थी। जिसके बाद नगर परिषद शीघ्र शहर में बंदरों को पकड़ने का अभियान चलाएगी। इसके लिए नगर परिषद टेंडर जारी किए हैं। 

इनजगहों पर है बंदरों के ठिकाने 

वैसेतो सारे शहर में ही बंदर देखने को मिलते हैं लेकिन विशेषकर रेलवे रोड स्थित कल्पना चावला पार्क, मॉडल टाउन, नहर किनारे स्थित स्वामी देवीदयाल योगाश्रम, रतिया रोड स्थित प्राचीन पंचमुखी शिव मंदिर, कृष्ण गोशाला, नागरिक अस्पताल पर ठिकाने बना रखे हैं। इसके अलावा मंदिरों के आसपास भी ये बंदर टोलियों में देखे जा सकते हैं। उक्त स्थानों पर चूंकि लोगों का काफी संख्या में आना जाना रहता है लेकिन अनेक लोग बंदरों द्वारा काटे जाने के भय से वहां नहीं जाते। 

फतेहाबाद में भी बंदरों से लोग परेशान 

पिछलेकुछ दिनों से शहर में बंदरों ने अपना आतंक मचाया हुआ है। झुंड में आए बंदर लोगों को परेशान किए हुए हैं। घर में घुस सामान को नुकसान पहुंचा रहे हैं। लोगों ने नगर परिषद प्रशासन से बंदरों काे पकड़ने की मांग की है। तहसील चौक एरिया निवासी अमीर चंद, सुरेश कुमार, अनिल कुमार ने बताया कि उनके मोहल्ले में कई दिनों से बंदरों का झुंड आया हुआ है जोकि उनके घरों में घुस जाता है। जो भी सामान पड़ा होता है, उसे खा जाते हैं या उठाकर ले जाते हैं। छत पर कपड़े सुखाना सामान रखना भी मुश्किल हो गया है। बंदर आकर सामान खराब कर जाते हैं। सारा दिन शोर मचाते हैं। वहीं उन्हें रोकने पर काटने को दौड़ते हैं। लोगों ने कहा कि प्रशासन को इस समस्या पर ध्यान देना चाहिए। 

टोहाना। प्राचीन पंचमुखी शिव मंदिर में टोली में घूमते बंदर। 

24 को खुलेंगे टेंडर 

कार्यकारीअधिकारी डॉ. प्रदीप हुड्डा एमई जयवीर सिंह ने बताया कि बंदरों को पकड़ने के लिए टेंडर कॉल किए गए हैं। जो 24 नवंबर को खोले जाएंगे। उन्होंने बताया कि वन्य प्राणी विभाग से शहर से 100 बंदर पकडऩे की अनुमति मिली है। जिसके लिए टेंडर लिए जाएंगे। 

खाद्य पदार्थों को उठा ले जाते हैं बंदर 

कल्पनाचावला पार्क में रहने वाले कुछ बंदर सामने स्थित जैन समाधी अस्पताल में पहुंच जाते हैं। जहां वे अस्पताल में दाखिल रोगियों के बेडो पर पहुंचकर वहां रखे खाद्य पदार्थों को उठा ले जाते हैं।