# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
आज के युग में शिक्षा और खेलों का समान महत्व: बबीता फौगाट

महेंद्रगढ़। कॉमलवेल्थ गेम्स में कुश्ती में स्वर्ण पदक विजेता एवं अर्जुन अवार्डी बबीता फौगाट ने शनिवार को एक निजी विद्यालय में प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि उनके पिता कोच फौगाट देश में खिलाड़ियों के लिए ऐसी 100 नर्सरियां स्थापित करना चाहता है। जिनमें 7 वर्ष से लेकर 22 वर्ष के उभरते खिलाड़ियों को प्रशिक्षण देकर तैयार किया जा सके। उन्होंने बताया कि शुरू में इन नर्सरियों में खिलाड़ियों को कुश्ती, कबड्डी, बॉस्केटबाल, बॉक्सिंग एवं एथलीट जैसे खेलों का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

 

 

बबीता फौगाट ने युवाओं से कहा कि पढ़ाई के साथ खेलों में भी भाग लेना चाहिए ताकि क्षेत्र खेलों में भी अव्वल बन सके। उन्होंने कहा कि आज के युग में शिक्षा एवं खेलों का समान महत्व है। प्रदेश सरकार भी खेलों के प्रति सजग है। प्रदेश के निजी एवं सरकारी विद्यालयों में विद्यार्थियों के लिए खेलों की व्यवस्था होगी तभी वे देश के लिए ओलंपिक खेलों में अधिक से अधिक भागीदारी कर पाएंगे।