# कारगिल विजय दिवस पर मोदी और जेटली ने दी श्रद्धांजलि         # मनाली में रोहतांग सुरंग के निकट फटा बादल, सड़क बही         # ब्रिटेन मे भारतीय मूल की मुस्लिम युवती की हत्या          # सहारा ग्रुपः सुप्रीम कोर्ट ने 1500 करोड़ रुपये जमा कराने का दिया आदेश         # सरकार ने खत्म किया भारत में ड्राइवरलैस कार का सपना         # भारत ने रिहा किए दस पाकिस्तानी कैदी         # पीएम ने किया बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वे, 500 करोड़ राहत पैकेज का एेलान         # 9982 पर निफ्टी, सेंसेक्स में दिखी 45 अंकों की तेजी         # चीन के पीछे हटने पर ही डोकलाम से हटेगी भारत की सेना         # राष्ट्रपति ने नेहरू का जिक्र न किया तो भड़क गई कांग्रेस         दिल्ली कोर्ट ने शब्बीर शाह को 7 दिन की ED रिमांड पर भेजा          # श्रीलंका के खिलाफ दोहरे शतक से चूके शिखर         सोनीपत विधानसभा क्षेत्र के लोग अपने विधायक से सबसे ज्यादा खुश-सर्वे रिपोर्ट        
News Description
आज के युग में शिक्षा और खेलों का समान महत्व: बबीता फौगाट

महेंद्रगढ़। कॉमलवेल्थ गेम्स में कुश्ती में स्वर्ण पदक विजेता एवं अर्जुन अवार्डी बबीता फौगाट ने शनिवार को एक निजी विद्यालय में प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि उनके पिता कोच फौगाट देश में खिलाड़ियों के लिए ऐसी 100 नर्सरियां स्थापित करना चाहता है। जिनमें 7 वर्ष से लेकर 22 वर्ष के उभरते खिलाड़ियों को प्रशिक्षण देकर तैयार किया जा सके। उन्होंने बताया कि शुरू में इन नर्सरियों में खिलाड़ियों को कुश्ती, कबड्डी, बॉस्केटबाल, बॉक्सिंग एवं एथलीट जैसे खेलों का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

 

 

बबीता फौगाट ने युवाओं से कहा कि पढ़ाई के साथ खेलों में भी भाग लेना चाहिए ताकि क्षेत्र खेलों में भी अव्वल बन सके। उन्होंने कहा कि आज के युग में शिक्षा एवं खेलों का समान महत्व है। प्रदेश सरकार भी खेलों के प्रति सजग है। प्रदेश के निजी एवं सरकारी विद्यालयों में विद्यार्थियों के लिए खेलों की व्यवस्था होगी तभी वे देश के लिए ओलंपिक खेलों में अधिक से अधिक भागीदारी कर पाएंगे।