# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
पैसे की कमी से जूझ रही जिले की गोशालाएं

कैथल: जिले में बनी 17 गोशाला पैसों की कमी से जूझ रही हैं। गोशालाओं की देखभाल और समस्याओं के निदान के लिए बनाया गया गो सेवा आयोग भी धरातल पर फेल नजर आता है। जिले की सभी गोशालाओं में अभी सिर्फ 15 हजार गायों को ही छत मिली हुई है। बाकी छह हजार अभी भी बेसहारा हैं। गोशालाओं के प्रधान से बातचीत में यह बात स्पष्ट हो जाती है कि सरकार सिर्फ दावे ही कर रही है।

ये सिर्फ चंदे और गायों से मिलने वाले दूध के आसरे ही चल रही हैं। हर साल इन गोशालाओं को लाखों रुपये की कमी से जूझना पड़ता है। अगर सरकार गोशाला और गोवंश के लिए संजीदगी से काम करे तो न गाय सड़कों पर ही दिखाई देंगी और न ही उनके इस तरह अपमानित होना पड़ेगा।