# कारगिल विजय दिवस पर मोदी और जेटली ने दी श्रद्धांजलि         # मनाली में रोहतांग सुरंग के निकट फटा बादल, सड़क बही         # ब्रिटेन मे भारतीय मूल की मुस्लिम युवती की हत्या          # सहारा ग्रुपः सुप्रीम कोर्ट ने 1500 करोड़ रुपये जमा कराने का दिया आदेश         # सरकार ने खत्म किया भारत में ड्राइवरलैस कार का सपना         # भारत ने रिहा किए दस पाकिस्तानी कैदी         # पीएम ने किया बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वे, 500 करोड़ राहत पैकेज का एेलान         # 9982 पर निफ्टी, सेंसेक्स में दिखी 45 अंकों की तेजी         # चीन के पीछे हटने पर ही डोकलाम से हटेगी भारत की सेना         # राष्ट्रपति ने नेहरू का जिक्र न किया तो भड़क गई कांग्रेस         दिल्ली कोर्ट ने शब्बीर शाह को 7 दिन की ED रिमांड पर भेजा          # श्रीलंका के खिलाफ दोहरे शतक से चूके शिखर         सोनीपत विधानसभा क्षेत्र के लोग अपने विधायक से सबसे ज्यादा खुश-सर्वे रिपोर्ट        
News Description
कागजों में ही मच्छरों को भगाने का प्लान

कैथल

बरसात शुरू हो गई है और दिनोंदिन मच्छरों की संख्या बढ़ती जा रही है, लेकिन जिला प्रशासन की ओर से मच्छरों से निपटने के लिए समुचित योजना नहीं बनाई गई है। शहर और ग्रामीण क्षेत्रों में फॉगिंग के लिए कागजी प्लान ही तैयार किया गया, जिसे नगर परिषद, नगर पालिका और पंचायतों को भेज दिया है, लेकिन धरातल पर इसे लागू करने के लिए मशीन तक नहीं खरीदी गई हैं।

थल नगर परिषद और टीक ग्राम पंचायत को छोड़कर किसी के पास फॉगिंग मशीन नहीं है। पूंडरी नगर पालिका की खरीदी गई फॉगिंग मशीन एक साल से खराब पड़ी है।

स्वास्थ्य विभाग नगर पालिका और पंचायतों को फॉगिंग मशीन खरीदने के लिए बार-बार पत्र लिख रहा है। इसके बावजूद पंचायत और नगर पालिका अधिकारी मशीनें खरीदने में कोताही बरत रहे हैं। पिछले साल फॉगिंग का काम नगर परिषद और पालिकाओं को दिया गया था। दवाई स्वास्थ्य विभाग की तरफ से मुहैया कराई गई थी। इसके बावजूद नगर परिषद और पूंडरी को छोड़कर गुहला, राजौंद और कलायत में पिछली बार फॉगिंग हुई ही नहीं। इस कारण इन क्षेत्रों में डेंगू के कई केस सामने आए थे।