News Description
मंडकौला खरीद केंद्र पर गन्ना की खरीद नहीं हुई शुरू

हथीन : शुगर मिल बामनीखेड़ा द्वारा संचालित गन्ना खरीद केंद्र मंडकौला पर आज तक खरीद शुरू न किए जाने के विरोध में के गन्ना उत्पादक किसानों में सरकार के प्रति रोष व्याप्त है। जिसके चलते क्षेत्र के एक दर्जन गांवों के सैंकड़ों की संख्या में किसानों ने मंडकौला गन्ना खरीद केन्द्र पर एक बैठक कर अपना खुलकर विरोध दर्ज कराया। किसानों का नेतृत्व शुगर मिल के पूर्व डायरेक्टर एवं जिला के प्रमुख किसान नेता सुखराम डागर कर रहे थे। उन्होंने खुली चेतावनी दी कि अगर शीघ्र ही गन्ना खरीद केन्द्र पर खरीद शुरू नहीं की गई तो किसान आंदोलन करेंगे।

पूर्व डायरेक्टर सुखराम डागर ने अपने संबोधन में कहा कि तीन नवंबर को प्रदेश के सहकारिता राज्यमंत्री मनीष कुमार ग्रोवर ने मिल के पिराई सत्र का शुभारंभ किया था लेकिन 17 दिन बीत जाने के बावजूद खरीद केन्द्र पर गन्ना की खरीद शुरू नहीं की गई है। केन्द्र पर गन्ना खरीद शुरू न होने से किसानों का भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि गन्ना प्रबंधक भेदभावपूर्ण नीति के चलते ही खरीद शुरू नहीं हुई है जिससे किसानों का गुस्सा बढ़ता जा रहा है। डागर ने कहा कि जिला में गन्ने की तीन किस्म पैदा होती हैं जिनमें अगेती, मध्यम व पछेती किस्में शामिल हैं। तथा इनके मूल्य में प्रति ¨क्वटल पांच-पांच रूपये का अंतर है। मंडकौला क्षेत्र में ज्यादातर मध्यम किस्म के गन्ना की पैदावार होती है तथा मिल को उचित अनुपात के हिसाब से सभी किसानों का गन्ना खरीदना था ऐसा न होने से मिल को पूरी तरह से गन्ना नहीं मिल पा रहा है यही कारण है कि आए दिन मिल बंद रहती है।

इस अवसर पर मंडकौला के पूर्व सरपंच बीर¨सह डागर, पूर्व जिला पार्षद प्रवीण डागर, धर्म मेंबर, करतार डागर, महेन्द्र, देवीराम ठोंडा, श्याम ¨सह, धर्मबीर खोखियाका, ठाकर, विजयपाल बीर¨सह, जवाहर डागर, सीताराम डागर आदि अनेकों किसान मौजूद थे।